ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेशन्यूज एजेंसी AP के खिलाफ इजरायल का ऐक्शन, कैमरा और प्रसारण उपकरण जब्त; पूरा मामला

न्यूज एजेंसी AP के खिलाफ इजरायल का ऐक्शन, कैमरा और प्रसारण उपकरण जब्त; पूरा मामला

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, लॉरेन ईस्टन ने कहा कि कार्रवाई साक्ष्य पर आधारित नहीं थी, बल्कि यह देश के नए विदेशी प्रसारण कानून का इजरायली सरकार की ओर से दुरुपयोग किए जाने के कारण की गई।

न्यूज एजेंसी AP के खिलाफ इजरायल का ऐक्शन, कैमरा और प्रसारण उपकरण जब्त; पूरा मामला
Niteesh Kumarएजेंसी,यरूशलमWed, 22 May 2024 01:07 AM
ऐप पर पढ़ें

इजरायली अधिकारियों ने मंगलवार को द एसोसिएटेड प्रेस का एक कैमरा और प्रसारण उपकरण जब्त कर लिए। साथ ही, समाचार एजेंसी पर आरोप लगाया कि उसने अल जजीरा को तस्वीरें प्रदान कर नए मीडिया कानून का उल्लंघन किया है। एपी ने इजरायल के इस कदम की निंदा की है। कतर का सैटेलाइट चैनल उन हजारों ग्राहकों में से एक है जो एपी और दूसरे समाचार संस्थानों से लाइव वीडियो प्राप्त करते हैं। समाचार संस्थान में कॉर्पोरेट संचार मामलों के उपाध्यक्ष लॉरेन ईस्टन ने कहा, ‘एसोसिएटेड प्रेस गाजा से संबंधित दृश्य दिखाने वाले हमारे लंबे समय से चले आ रहे लाइव फीड को बंद करने और एपी के उपकरण जब्त करने की इजरायल सरकार की कार्रवाई की कड़े शब्दों में निंदा करता है।’

लॉरेन ईस्टन ने कहा कि कार्रवाई साक्ष्य पर आधारित नहीं थी, बल्कि यह देश के नए विदेशी प्रसारण कानून का इजरायली सरकार की ओर से दुरुपयोग किए जाने के कारण की गई। ईस्टन ने कहा, ‘हम इजरायली अधिकारियों से हमारे उपकरण वापस करने और हमें सीधा प्रसारण करने देने का अनुरोध करते हैं, ताकि हम दुनिया भर के हजारों मीडिया संस्थानों को महत्वपूर्ण फुटेज प्रदान करना जारी रख सकें।’ इजरायल के संचार मंत्रालय के अधिकारी मंगलवार दोपहर दक्षिणी शहर सदेरोत में उस जगह पर पहुंचे, जहां एपी की टीम मौजूद थी। उन्होंने समाचार प्रतिष्ठान के उपकरण जब्त कर लिए।

विदेशी प्रसारण कानून के उल्लंघन का आरोप
रिपोर्ट के मुताबिक, अधिकारियों ने एपी को संचार मंत्री श्लोमो करही की ओर से हस्ताक्षरित दस्तावेज सौंपा, जिसमें आरोप लगाया गया कि यह देश के विदेशी प्रसारण कानून का उल्लंघन है। उपकरण जब्त किए जाने से कुछ समय पहले एपी उत्तरी गाजा का सामान्य दृश्य प्रसारित कर रहा था। एपी इजरायल के सैन्य सेंसरशिप नियमों का अनुपालन करता है, जो सैनिकों की गतिविधियों जैसे विवरणों के प्रसारण पर रोक लगाता है। एपी के खिलाफ लिए गए इस ऐक्शन की लोग आलोचना कर रहे हैं। सोशल मीडिया यूजर्स की ओर से भी इसे लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं।