ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेशइजरायली सेना ने दिखाई दरिंदगी, घायल फिलिस्तीनी को जीप के बोनट पर बांधकर कराई परेड

इजरायली सेना ने दिखाई दरिंदगी, घायल फिलिस्तीनी को जीप के बोनट पर बांधकर कराई परेड

इजरायली रक्षा बलों की दरिंदगी और हैवानियत लगातार सामने आ रही है। एक नए घटनाक्रम में इजरायली सेना पर एक घायल फिलिस्तीनी को जीप के बोनट पर बांधकर परेड कराने का आरोप है।

इजरायली सेना ने दिखाई दरिंदगी, घायल फिलिस्तीनी को जीप के बोनट पर बांधकर कराई परेड
Gaurav Kalaरॉयटर्स,जेनिनSun, 23 Jun 2024 09:44 AM
ऐप पर पढ़ें

इजराइल और हमास के बीच युद्ध खत्म होना तो दूर, क्रूरता की हदें पार कर रहा है। इजरायली रक्षा बलों की दरिंदगी और हैवानियत लगातार सामने आ रही है। सैन्य बलों ने पहले राहत कैंपों में सो रहे मासूमों पर बम वर्षा कर तबाही मचाई थी। अब एक और घटना ने आईडीएफ के तमाम दावों की पोल खोल दी है। शनिवार को अपने कब्जे वाले पश्चिमी तट के शहर जेनिन में इजरायली रक्षा बलों ने एक घायल फिलिस्तीनी व्यक्ति को जीप के बोनट पर बांधकर घुमाया। इस घटना का वीडियो भी सामने आया है। प्रकरण सामने आने के बाद इजरायल ने मामले में जांच शुरू करने का आदेश दिया है।

इजरायली रक्षा बलों की दरिंदगी दिखा रहे वीडियो की समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने पुष्टि की है। एजेंसी का कहना है कि वीडियो में दिख रहा शख्स फिलिस्तीनी युवक मुजाहिद आज़मी है, उसे एक जीप के बोनट पर बांधकर घुमाते हुए देखा जा सकता है। जीप दो एंबुलेंस को पार करते हुए आगे बढ़ते दिखाई दे रही है। 

इजरायली सेना का क्या कहना है?
उधर, इज़रायली सेना ने कहा कि उसके बलों पर गोलीबारी की गई और दोनों ओर से गोलीबारी हुई, जिसमें एक संदिग्ध घायल हो गया और उसे पकड़ लिया गया। बयान में कहा गया है कि सैनिकों ने सैन्य प्रोटोकॉल का उल्लंघन किया। बयान में कहा गया है, "संदिग्ध को एक वाहन के ऊपर बांधकर सेना द्वारा ले जाया गया।" सेना ने कहा कि घटना के वीडियो में दिख रहे बलों का आचरण इजरायली सेना के मूल्यों के अनुरूप नहीं है और इस घटना की जांच की जाएगी तथा उससे निपटा जाएगा। सेना ने बताया कि व्यक्ति को उपचार के लिए चिकित्सकों के पास भेज दिया गया है।

घटना क्या हुई
उधर, आज़मी के परिवार के अनुसार, छापेमारी के दौरान यह घटना हुई। उनका कहना है कि आजमी की गिरफ्तारी के लिए इजरायली सेना बड़ी संख्या में उनके घर दाखिल हुई। गोलीबारी के दौरान वह घायल हो गए। जब परिवार ने एम्बुलेंस की मांग की तो सेना जबरन उसे जीप के बोनट पर बांधकर अपने साथ ले गई।