ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेशइतने गुस्से में क्यों है ईरान? कभी भी कर सकता है इजरायल पर हमला; भारत ने जारी की एडवाइजरी

इतने गुस्से में क्यों है ईरान? कभी भी कर सकता है इजरायल पर हमला; भारत ने जारी की एडवाइजरी

इस रिपोर्ट की माने तो हमले अगले 24 से 48 घंटे के भीतर हो सकते हैं। ईरान से जुड़े सूत्रों ने बताया कि हमले की योजना पर चर्चा की जा रही है, हालांकि कोई अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है।

इतने गुस्से में क्यों है ईरान? कभी भी कर सकता है इजरायल पर हमला; भारत ने जारी की एडवाइजरी
Himanshu Jhaएजेंसी,तेहरान।Sat, 13 Apr 2024 10:15 AM
ऐप पर पढ़ें

इस महीने की शुरुआत में दमिश्क में ईरान के दूतावास पर इजरायल ने हमला कर दिया था। इस हमले में दो ईरानी जनरलों की मौत हो गई थी। इस घटना के बाद ईरान गुस्से में है। उसने जवाबी हमले की धमकी दी है। अमेरिकी मीडिया रिपोर्ट में भी इस बात का दावा किया गया है कि अगले दो दिन में ईरान इजरायल पर हमला कर सकता है। रिपोर्ट में अमेरिका के खुफिया विभाग के हवाले से ये जानकारी दी गई है। भारत, फ्रांस और रूस सहित देशों ने अपने नागरिकों के लिए एडवाइजरी जारी की है। 

इस रिपोर्ट की माने तो हमले अगले 24 से 48 घंटे के भीतर हो सकते हैं। ईरान से जुड़े सूत्रों ने बताया कि हमले की योजना पर चर्चा की जा रही है, हालांकि कोई अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है। सीरिया के दमिश्क में ईरानी दूतावास पर हुए इजरायली हमले के बाद दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया है। ईरान ने इजरायल पर हमले की चेतावनी दी है। अमेरिकी खुफिया रिपोर्ट के हवाले ये कहा गया कि इजरायल की सीमाओं के भीतर ये हमला हो सकता है।

ईरान के सर्वोच्च नेता के पास पहुंची योजना
ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्लाह अली खामेनेई के पास इजरायल हमले से जुड़ी योजना पहुंच चुकी है। हालांकि इस पर उन्होंने कोई अंतिम निर्णय नहीं लिया है। बताया जा रहा है कि उन्हें चिंता है कि हमलों का उल्टा असर हो सकता है। इससे ईरान के रणनीतिक बुनियादी ढ़ांचों पर बड़े पैमाने पर कार्रवाई की जा सकती है। वह हमला किए जाने की स्थिति में राजनीतिक जोखिमों का आकलन कर रहे हैं।

ब्रिटेन-जर्मनी के विदेश मंत्रियों ने की बात
बढ़ते अंतरराष्ट्रीय तनाव के बीच दावा किया गया कि गुरुवार को जर्मनी और ब्रिटेन के विदेश मंत्री एनालेना बेयरबॉक और डेविड कैमरन ने अपने ईरानी समकक्ष होसैन अमीर अब्दुल्लाहियन से फोन पर बात की और इजरायल पर हमला न करने को कहा। उन्होंने ईरान से संयम बरतने का आह्वान किया है। न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र में ईरान के मिशन के एक प्रवक्ता ने बताया, कई क्षेत्रीय और यूरोपीय मंत्रियों ने ईरान के विदेश मंत्री को फोन किया है।

अमेरिका ने चीन-सऊदी से की बात
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, ईरान द्वारा हमले की तैयारी को लकर अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने सऊदी अरब, चीन, तुर्किये और कई यूरोपीय देशों के विदेश मंत्रियों से फोन पर बात की। ब्लिंकन ने सभी देशों से ईरान को हमला न करने के लिए मनाने को कहा है। अमेरिका के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मैथ्यू मिलर ने कहा, विवाद को बढ़ावा देना किसी के भी हित में नहीं है।

फ्रांस ने नागरिकों को दी सलाह
फ्रांस ने ईरान के हमले की आशंका को देखते हुए अपने नागरिकों को सलाह दी है कि वह इस क्षेत्र की यात्रा न करें। उसने ईरान, लेबनान, फलस्तीन, इजरायल की यात्रा से बचने को कहा है। ईरान की जवाबी कार्रवाई की धमकी के बाद फ्रांसिसी विदेश मंत्री स्टीफन सेजॉर्न ने ये सिफारिश की है। मॉस्को और बर्लिन ने संयम बरतने का आग्रह किया। जर्मन एयरलाइन लुफ्थांसा ने तेहरान से आने-जाने वाली उड़ानों का अस्थायी निलंबन शनिवार तक बढ़ा दिया है।

अलर्ट पर इजरायल
ईरानी धमकी के बाद इजरायल हाई अलर्ट पर है। उसने अपने सभी सैनिकों की छुट्टियां रद्द कर दी है। अपनी हवाई रक्षा प्रणाली को और मजबूत और अलर्ट पर किया है। हथियारों को तैनात कर दिया गया है और हर स्थिति पर बारीकी से नजर रखी जा रही है। ईरान से लगती सीमाओं पर सैनिकों की संख्या में इजाफा किया गया है।

अमेरिका ने अपने राजनयिकों को चेताया
अमेरिका ने इजरायल में अपने दूतावास से कहा कि अमेरिकी सरकारी कर्मचारी, उनके परिवार के सदस्य अगली सूचना तक इजरायल, यरुशलम, बेर्शेबा के बाहर कोई भी व्यक्तिगत यात्रा न करें। उनके ऐसा करने पर प्रतिबंध लगाया जा रहा है। वहीं गंभीर होती स्थिति को देखते हुए मध्य-पूर्व में अमेरिकी सैन्य अभियानों के प्रमुख सेंट्रल कमांड के कमांडर जनरल माइकल एरिक कुरिला इजरायल में थे।

बेंजामिन नेतन्याहू दे चुके सीधी चेतावनी
बीते दिनों इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने ईरान को सीधी चेतावनी देते हुए कहा था कि अगर कोई हमें नुकसान पहुंचाएगा, तो उसका जवाब देंगे। उन्होंने कहा, इजरायल ने सुरक्षा को लेकर सभी को अलर्ट पर रखा है हम रक्षात्मक और आक्रामक रूप से पूरी तरह तैयार हैं। एक इजरायली सैन्य प्रवक्ता ने कहा कि खुफिया जानकारी से पता चला है कि दमिश्क में जिस इमारत पर हमला किया गया वह कोई राजनयिक सुविधा नहीं थी, बल्कि एक इमारत थी जिसका उपयोग कुद्स फोर्स करता है और यह एक नागरिक स्थल के रूप में छिपी हुई है।

अमेरिका कर चुका है समर्थन का वादा
ईरान की धमकी के बाद बीते दिनों अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने एक बयान जारी कर कहा था कि हम अपने सहयोगियों के साथ खड़े हैं और उसकी पूरी मदद की जाएगी।