ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेशराफा की सड़कों पर फिर उतरे इजरायली टैंक, राहत शिविरों पर नए अटैक में 21 को मार डाला

राफा की सड़कों पर फिर उतरे इजरायली टैंक, राहत शिविरों पर नए अटैक में 21 को मार डाला

इजरायली सेना का राफा में कत्लेआम रुकने का नाम नहीं ले रहा है। रविवार को 45 लोगों को जिंदा जला देने के बाद मंगलवार को आईडीएफ ने एक बार फिर राहत शिविरों पर हमला किया और 21 को मार डाला।

राफा की सड़कों पर फिर उतरे इजरायली टैंक, राहत शिविरों पर नए अटैक में 21 को मार डाला
Gaurav Kalaलाइव हिन्दुस्तान,राफाWed, 29 May 2024 07:45 AM
ऐप पर पढ़ें

दक्षिण गाजा के शहर राफा में इजरायली सेना ने फिर कत्लेआम मचाया है। ताजा अटैक में मंगलवार को इजरायली सेना ने विस्थापितों के लिए बनाए गए शिविवर पर हमला करके 21 लोगों को मौत के घाट उतार दिया। इससे पहले इजरायल ने रविवार को राफा में हवाई हमला करके 45 लोगों को मार डाला था। रविवार को हुए हमले पर इजरायली पीएम बेंजामिन नेतन्याहू ने अफसोस जताया था और मांगी मांगते हुए जांच के आदेश दिए थे। हालांकि एक दिन बाद ही इजरायल ने एक बार फिर राफा में मासूमों का कत्ल करना शुरू कर दिया है।

रिपोर्ट यह भी है कि इजरायली सेना ने राफा की महत्वपूर्ण पहाड़ी पर कब्जा भी कर लिया है, जो मिस्र से मिलती है। इजरायल की राफा में लगातार स्ट्राइक पर सऊदी अरब की तीखी प्रतिक्रिया सामने आई है। उसने दो टूक शब्दों में कहा है कि इजरायल को जितना जल्दी हो सके फिलिस्तीन को स्वीकार कर लेना चाहिए क्योंकि दोनों का अस्तित्व आपस में जुड़ा हुआ है।

एपी की रिपोर्ट के अनुसार, हमास द्वारा संचालित गाजा पट्टी के एक नागरिक सुरक्षा अधिकारी ने कहा कि मंगलवार को राफा के पश्चिम में इजरायली सैनिकों ने फिर हमला बोला और यहां एक विस्थापन शिविर पर हमले के बाद कम से कम 21 लोग मारे गए। मोहम्मद अल-मुग़य्यर ने कहा कि वे "राफ़ा के पश्चिम में विस्थापित लोगों के तंबुओं को निशाना बनाकर किए गए हमले में मारे गए।" हमास ने कहा कि इजरायली हमले में क्षेत्र में "दर्जनों लोग शहीद और घायल" हुए हैं।

फिलिस्तीनी अधिकारियों के अनुसार, यह तब हुआ जब दक्षिणी गाजा शहर में एक भीड़ भरे शिविर पर हवाई हमले में इजरायल ने 45 लोगों को मार डाला। हमला इतना भयावह था कि कई लोग जिंदा जल गए। इस हमले के बाद नेतन्याहू ने दुख जताया था और हमले पर अफसोस जताते हुए मामले में जांच के आदेश दिए थे। हालांकि इजरायल के घड़ियाली आंसुओं के एक दिन बाद ही इजरायल ने फिर से राफा में मासूमों को मारना शुरू कर दिया है।

दुनिया भर में हो रही आलोचना
इजरायली हमले की दुनियाभर में आलोचना हो रही है। तुर्की ने इजरायली हमले को नरसंहार कहा है। वहीं, सऊदी अरब की इजरायल पर प्रतिक्रिया सबसे महत्वपूर्ण मानी जा रही है। सऊदी अरब का कहना है कि इजरायल को किसी भी हालत में जल्द से जल्द फिलिस्तीन को स्वीकार कर देना चाहिए, क्योंकि इजरायल का अस्तित्व ही फिलिस्तीन से है। सऊदी अरब ने इजरायली हमले की निंदा भी की और इसे जल्द से जल्द रोकने का आह्वान किया। उधर, राफा में लगातार हमलों के बाद से हमास बौखला गया है। उसने कहा है कि अब इजरायल से युद्धविराम वार्ता नहीं की जाएगी।