ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News विदेशये कैसी इंसानियत? गाजा के अस्पताल के ICU में जिंदा शिशुओं को छोड़ा, अब सड़ रही हैं लाशें

ये कैसी इंसानियत? गाजा के अस्पताल के ICU में जिंदा शिशुओं को छोड़ा, अब सड़ रही हैं लाशें

बच्चों के छोटे शरीर दिखाई दे रहे थे, जिनमें जीवन रक्षक उपकरण लगे हुए नजर आ रहे हैं। हमास-इजरायल की दुश्मनी के बीच गाजा में शिशुओं का अस्पताल जंग के मैदान में बदल गया था।

ये कैसी इंसानियत? गाजा के अस्पताल के ICU में जिंदा शिशुओं को छोड़ा, अब सड़ रही हैं लाशें
Himanshu Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,गाजाSat, 09 Dec 2023 09:31 AM
ऐप पर पढ़ें

गाजा के अल-नस्र अस्पताल के खाली कराए गए आईसीयू में शिशुओं के क्षत-विक्षत शव पाए गए हैं। गाजा स्थित रिपोर्टर मोहम्मद बालौशा ने अस्पताल में सड़ रहे शिशुओं के शवों का दर्दनाक वीडियो कैमरे में कैद किया है। सीएनएन की रिपोर्ट की मानें तो वीडियो में बच्चों के छोटे शरीर दिखाई दे रहे हैं, जिनमें जीवन रक्षक उपकरण लगे हुए नजर आ रहे हैं। 27 नवंबर के फुटेज में कम से कम चार शिशुओं के अवशेष दिखाए गए थे, जिनमें से कुछ के कंकाल तक नजर आ रहे हैं।

रिपोर्ट की मानें तो अल-नस्र और अल-रंतीसी जैसे बच्चों का अस्पताल नवंबर की शुरुआत में इजरायली और हमास बलों के बीच युद्ध का मैदान बन गया था। सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, इजरायली निर्देश के तहत अस्पताल के कर्मचारियों को 10 नवंबर को जल्दबाजी में बाहर निकाला गया। इस जल्दबाजी में छोटे बच्चे आईसीयू में रह गए जिन्हें बाहर नहीं निकाला जा सका।

आईसीयू में शिशुओं को जिंदा छोड़ा 
रिपोर्ट में शिशुओं की स्थिति के बारे में भी जिक्र करते अस्पताल से जुड़े एक डॉक्टर ने बताया कि निकासी से ठीक पहले दो बच्चों की मौत हो गई थी, जबकि दो महीने के बच्चे सहित तीन अन्य को जीवित छोड़ दिया गया था। दोनों बाल चिकित्सा अस्पतालों के प्रमुख डॉ. मुस्तफा अल-कहलौत ने 9 नवंबर को एक वीडियो में अस्पताल को हुए नुकसान और आईसीयू में ऑक्सीजन की कटौती का हवाला देते हुए गंभीर स्थिति पर प्रकाश डाला। रेड क्रॉस की अंतर्राष्ट्रीय समिति (आईसीआरसी) सहित अंतरराष्ट्रीय संगठनों से हस्तक्षेप की अपील के बावजूद, अस्पताल को महत्वपूर्ण चुनौतियों का सामना करना पड़ा। हमास-इजरायल के बीच चल रही शत्रुता के कारण एम्बुलेंस की सुविधा तक नहीं पहुंच सकी।

अस्पताल के एक अधिकारी और क्षेत्र में इजरायली गतिविधियों का समन्वय करने वाले एक अधिकारी के बीच एक ऑडियो रिकॉर्डिंग में निकासी के लिए एक समझौते का सुझाव दिया गया। हालांकि, कथित तौर पर एम्बुलेंस कभी नहीं पहुंची। आखिर में परिवारों और अस्पताल के कर्मचारियों को खुद ही बाहर निकलने के लिए मजबूर होना पड़ा। रिपोर्ट्स बताते हैं कि अल-नस्र के कर्मचारियों को इजरायल रक्षा बलों (आईडीएफ) ने निर्देश दिया था कि कम समय सीमा के भीतर सफेद झंडे और कमजोर मरीजों के साथ वे बाहर निकलें।

शिशुओं की मौत का जिम्मेदार कौन?
आईडीएफ ने शिशुओं की मौत के लिए जिम्मेदारी से इनकार कर दिया है और आरोपों को झूठा और तथ्यों का गलत करार दिया। आईडीएफ के प्रवक्ता डोरोन स्पीलमैन द्वारा इन तथ्यों को खारिज करने के बावजूद, शिशुओं के भाग्य से जुड़ी परिस्थितियां विवाद का विषय बनी हुई हैं। हमास के नियंत्रण में गाजा स्वास्थ्य मंत्रालय ने आईडीएफ पर निकासी का आदेश देने और आईसीआरसी सहायता का झूठा वादा करने का आरोप लगाया। आईसीआरसी ने स्पष्ट किया कि वह सुरक्षा स्थिति के कारण किसी भी ऑपरेशन या निकासी में शामिल नहीं था।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें