ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News विदेशनिहत्थे नागरिकों के खिलाफ हो रहा बर्बर नरसंहार, इजरायल पर भड़का हमास चीफ क्या बोला?

निहत्थे नागरिकों के खिलाफ हो रहा बर्बर नरसंहार, इजरायल पर भड़का हमास चीफ क्या बोला?

तीन सप्ताह से अधिक समय पहले युद्ध शुरू होने के बाद से गाजा में फंसे लोगों को राफा सीमा पार से एम्बुलेंस में ले जाया गया था। कई विदेशी नागरिकों को गाजा क्षेत्र को छोड़ने की अनुमति दी जाएगी।

निहत्थे नागरिकों के खिलाफ हो रहा बर्बर नरसंहार, इजरायल पर भड़का हमास चीफ क्या बोला?
Madan Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,गाजा सिटीWed, 01 Nov 2023 09:52 PM
ऐप पर पढ़ें

Israel Hamas War: फिलिस्तीनी समूह हमास के प्रमुख इस्माइल हनियेह ने बुधवार को इजरायल पर अपनी हार को कवर करने के लिए गाजा युद्ध में नरसंहार करने का आरोप लगाया। हनियेह ने 'अल जजीरा' द्वारा प्रसारित एक भाषण में भड़कते हुए कहा, "इजरायल निहत्थे नागरिकों के खिलाफ बर्बर नरसंहार कर रहा है, लेकिन यह खलनायकी उन्हें भारी हार से नहीं बचा पाएगी।'' हनियेह ने यह भी दावा किया कि गाजा पट्टी में रखे गए इजरायली बंधक उसी मौत और विनाश के अधीन थे जिसका फिलिस्तीनियों ने सामना किया है।

हनियेह ने एक रिकॉर्ड किए गए वीडियो संदेश में कहा, ''हमास ने मध्यस्थों से कहा है कि नरसंहार को रोकना आवश्यक है और निर्णय लेने वालों पर दबाव बनाने के लिए लोगों से, विशेष रूप से पश्चिम में, विरोध जारी रखने का आह्वान किया है। हनियेह ने यह भी कहा कि राफा सीमा पार के लिए दोनों दिशाओं में संचालन जारी रखना महत्वपूर्ण है। हनियेह का बयान तब आया है जब गाजा से निकाले गए नागरिकों का पहला समूह बुधवार को कतर की मध्यस्थता समझौते के तहत मिस्र में प्रवेश कर गया। वहीं, इजरायली बलों ने हमास आतंकवादियों के खिलाफ अपना आक्रामक अभियान जारी रखते  हुए जमीन, समुद्र और हवा से फिलिस्तीनी इलाके पर बमबारी की।

तीन सप्ताह से अधिक समय पहले युद्ध शुरू होने के बाद से गाजा में फंसे लोगों को राफा सीमा पार से एम्बुलेंस में ले जाया गया था। मिस्र, इजरायल और हमास के बीच हुए समझौते के तहत, कई विदेशी नागरिकों और गंभीर रूप से घायल लोगों को गाजा क्षेत्र को छोड़ने की अनुमति दी जाएगी। उधर, फिलिस्तीनी निवासियों ने कहा कि मानवीय मोर्चे पर सफलता के बावजूद, इजरायली युद्धक विमानों, नौसैनिक नौकाओं और तोपखाने ने रात भर गाजा पर हमला किया, जिससे कई नागरिक हताहत हुए। मिस्र के एक सुरक्षा सूत्र ने पहले समाचार एजेंसी रॉयटर्स को बताया था कि बुधवार को 500 से अधिक विदेशी पासपोर्ट धारक राफा क्रॉसिंग से गुजरेंगे। लगभग 200 लोग फिलिस्तीनी सीमा पर इंतज़ार कर रहे थे। एक दूसरे सूत्र ने कहा कि सभी के बुधवार को बाहर आने की उम्मीद नहीं है और क्रॉसिंग कितने समय तक खुला रहेगा इसकी कोई समयसीमा नहीं है।

एक पश्चिमी अधिकारी ने कहा कि इजरायल और मिस्र के बीच विदेशी पासपोर्ट वाले उन लोगों की सूची पर सहमति बन गई है जो गाजा छोड़ सकते हैं। रॉयटर्स की रिपोर्ट के अनुसार, एक इजरायली अधिकारी ने पुष्टि की कि इजरायल मिस्र के साथ निकास का समन्वय कर रहा है। इंडोनेशिया का कहना है कि वह 10 नागरिकों को बाहर निकालने की कोशिश कर रहा था लेकिन उनमें से तीन ने रुकने का फैसला किया है। फिलीपींस, जॉर्डन और इटली ने भी कहा कि उन्हें बुधवार को नागरिकों को बाहर लाने की उम्मीद है। इजरायल ने कहा है कि 7 अक्टूबर को दक्षिणी इजरायल पर हमास के हमले में लगभग 300 सैनिक और 1,100 नागरिक मारे गए, जबकि गाजा स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि गाजा पर इजरायली हमलों में 3,648 बच्चों सहित कम से कम 8,796 फिलिस्तीनी मारे जा चुके हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें