ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेशपक्षपातपूर्ण और दागदार है... गाजा पर UN की जांच रिपोर्ट से क्यों तिलमिलाया इजरायल

पक्षपातपूर्ण और दागदार है... गाजा पर UN की जांच रिपोर्ट से क्यों तिलमिलाया इजरायल

UN Report on Gaza War: संयुक्त राष्ट्र की जांच रिपोर्ट पर इजरायली विदेश मंत्रालय ने कहा कि ये रिपोर्ट घाव पर नमक छिड़कने जैसा है और इजरायली सैनिकों के खिलाफ झूठे आरोपों और खूनी मानहानि से भरी हुई है।

पक्षपातपूर्ण और दागदार है... गाजा पर UN की जांच रिपोर्ट से क्यों तिलमिलाया इजरायल
israel on un report
Pramod Kumarएजेंसी,नई दिल्लीThu, 13 Jun 2024 04:31 PM
ऐप पर पढ़ें

गाजा पट्टी में पिछले आठ महीनों से हो रहे कत्ले-आम पर संयुक्त राष्ट्र आयोग की जांच रिपोर्ट को इजरायल ने खारिज कर दिया है और कहा है कि वैश्विक संस्था की रिपोर्ट पक्षपाती और दागदार है। इस रिपोर्ट में संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि गाजा में हमास के खिलाफ युद्ध में इजरायल ने मानवता के खिलाफ अपराध किए हैं, जिसमें "विनाश" भी शामिल है। गाजा युद्ध में संयुक्त राष्ट्र के विशेषज्ञों द्वारा की गई पहली गहन जांच रिपोर्ट में कहा गया है कि इजरायली और फिलिस्तीनी सशस्त्र समूहों यानी दोनो ने वहां युद्ध अपराध किए हैं।

बुधवार को जारी संयुक्त राष्ट्र के स्वतंत्र जांच आयोग ने पाया कि इजरायल ने गाजा में "युद्ध अपराध, मानवता के खिलाफ अपराध" और अन्य अंतरराष्ट्रीय कानून के उल्लंघन किए हैं। इस रिपोर्ट में गाजा में नागरिकों और उनके ठिकानों पर बड़े पैमाने पर हुए हमलों का उल्लेख किया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि इजरायली नागरिकों पर लगातार मिसाइल हमले नहीं हो रहे हैं और न ही कोई लोकतांत्रिक राज्य आतंकवादी हमले के खिलाफ खुद का बचाव कर रहा है।

दूसरी तरफ, इजरायल के विदेश मंत्रालय ने कहा कि आयोग पक्षपाती है और इजरायल विरोधी एजेंडे की मानसिकता से ग्रस्त और दागदार है। बुधवार देर रात जारी अपने बयान में  इजरायली विदेश मंत्रालय ने कहा, "ये रिपोर्ट घाव पर नमक छिड़कने जैसा है और इजरायली सैनिकों के खिलाफ झूठे आरोपों और खूनी मानहानि से भरी हुई है।" 

बता दें कि 7 अक्तूबर को इजरायल पर हमास के हमले के बाद से गाजा पर हमले शुरू हुए हैं। AFP के मुताबिक हमास के हमले में इजरायल में 1,194 लोगों की मौत हुई थी, जिनमें ज्यादातर नागरिक थे। इसके अलावा  हमास आतंकवादियों ने 251 इजरायलियों को बंधकों बना लिया था, जिनमें से 116 अब भी गाजा में बताए जा रहे हैं। हालांकि इजरायली सेना का कहना है कि उनमें से कम से कम 41 की मौत हो चुकी है।

हमास शासित क्षेत्र के स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, गाजा पट्टी में इजरायल के जवाबी हमले में अब तक आठ महीनों में 37,000 से ज़्यादा लोग मारे गए हैं, जिनमें ज़्यादातर नागरिक हैं।  इजरायल और फ़िलिस्तीनी क्षेत्रों में कथित अंतरराष्ट्रीय कानून उल्लंघनों की जाँच के लिए मई 2021 में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद द्वारा जाँच आयोग की स्थापना की गई थी।

आयोग ने अपनी रिपोर्ट में यह भी कहा है कि  7 अक्टूबर को हमास के हमले में भाग लेने वाले सशस्त्र समूहों के सदस्यों ने जानबूझकर इजरायली नागरिकों की हत्याएं कीं, लोगों को घायल किया, इजरायली नागरिकों को बंधक बनाए और यौन और लिंग आधारित हिंसा की। बहरहाल, हमास ने अभी तक संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट पर कोई टिप्पणी नहीं की है।