ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेशअमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में चीन दे रहा दखल, हमारे पास सबूत; US के गंभीर आरोप

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में चीन दे रहा दखल, हमारे पास सबूत; US के गंभीर आरोप

ब्लिंकन ने चुनाव और चीन को लेकर बड़ी बात बोल दी। उन्होंने कहा कि चिंता है कि चीन और दूसरे देश US के भीतर विभाजन का लाभ उठा सकते हैं और प्रेसिडेंशियल कैंपेन को प्रभावित कर सकते हैं।

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में चीन दे रहा दखल, हमारे पास सबूत; US के गंभीर आरोप
Niteesh Kumarलाइव हिन्दुस्तान,वाशिंगटनSat, 27 Apr 2024 08:13 AM
ऐप पर पढ़ें

क्या अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में चीन दखल देने की कोशिश कर रहा है? इसे लेकर अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि यूएस ने चीन की ओर से अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव को प्रभावित करने और हस्तक्षेप करने के प्रयास के सबूत देखे हैं। मालूम हो कि अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव इसी साल नवंबर में होना है। इसमें मौजूदा राष्ट्रपति और डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडन और रिपब्लिकन पार्टी के संभावित उम्मीदवार पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच फिर से मुकाबला हो सकता है। 2020 के राष्ट्रपति चुनाव में बाइडन ने ट्रंप को हरा दिया था।

सीएनएन को दिए इंटरव्यू में ब्लिंकन ने चुनाव और चीन को लेकर बड़ी बात बोल दी। उन्होंने कहा कि ऐसी चिंता है कि चीन और दूसरे देश US के भीतर विभाजन का लाभ उठा सकते हैं और प्रेसिडेंशियल कैंपेन को प्रभावित कर सकते हैं। एंटनी ब्लिंकन की यह टिप्पणी ऐसे वक्त आई जब वह चीन की तीन दिवसीय यात्रा पूरी करके लौटे हैं। इस दौरान उन्होंने राष्ट्रपति शी जिनपिंग, विदेश मंत्री वांग यी और सार्वजनिक सुरक्षा मंत्री वांग शियाओहोंग सहित टॉप चीनी लीडर्स से मुलाकात की थी। ध्यान रहे कि एक साल के भीतर यह उनकी दूसरी चीन यात्रा रही।

चीनी प्रयासों को सावधानी से देख रहे: ब्लिंकन
एंटनी ब्लिंकन ने कहा, 'बाइडन प्रशासन अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में हस्तक्षेप करने के चीनी प्रयासों को सावधानी से देख रहा है। ऐसा कुछ करना पूरी तरह से अस्वीकार्य है। हमने चुनावों प्रभावित करने और हस्तक्षेप करने के प्रयासों के सबूत देखे हैं। हम सुनिश्चित करना चाहते हैं कि इसे जल्द से जल्द खत्म किया जाए।' अमेरिकी विदेश मंत्री और चीनी राष्ट्रपति के बीच मुलाकात के दौरान क्या बातें हुईं? इस पर उन्होंने कहा कि जिनपिंग के समक्ष चीन की ओर से रूस के यूक्रेन पर हमले को समर्थन देने पर चर्चा हुई। ताइवान और दक्षिण चीन सागर, मानवाधिकार और ‘सिंथेटिक ओपिओइड प्रीकर्सर’ के प्रोडक्शन और निर्यात को लेकर भी बातचीत हुई।