DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खाड़ी में टैंकर संकट के बीच विएना में परमाणु समझौते वाले देशों से मिलेगा ईरान

iran  reuters photo

खुद को ''सुरक्षा का संरक्षक" बताने वाले ईरान ने खाड़ी में बढ़ते टैंकर संकट के बीच मंगलवार को कहा कि वह संकटग्रस्त परमाणु समझौते में अभी भी शामिल देशों के साथ होने वाली आगामी बैठक में हिस्सा लेगा। यह बैठक 28 जुलाई को होगी और इसका मकसद बड़ी मुश्किल से हासिल हुये इस सौदे को बचाना है जो पिछले साल अमेरिका के हाथ खींचने के बाद से अपनी अंतिम सांसे गिन रहा है। इसके बाद अमेरिका ने ईरान पर कठोर प्रतिबंध लगाने का ऐलान कर दिया था।

अमेरिकी के साथ बढ़ती तनातनी के मध्य ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्डस ने शुक्रवार को अमेरिका के सहयोगी देश ब्रिटेन के झंडाधारी टैंकर को जब्त कर लिया था। राजकीय टेलीविजन ने इस टैंकर स्टेना इम्पेरो पर सवार चालक दल के सदस्यों के नए फुटेज जारी किए। इस टैंकर को ईरान ने बंदर अब्बास पर रोका हुआ है। ईरान का कहना है कि इस जहाज ने ''अंतरराष्ट्रीय नौवहन नियम" का उल्लंघन किया है।

इस वीडियो में 18 भारतीय, तीन रूसी, लाताविया का एक नागरिक और फिलीपींस का एक नागरिक दिखाई दे रहा है। ये लोग एक मेज के इर्दगिर्द बैठे हैं और अपना रोजमर्रा का काम आराम से कर रहे हैं। ईरान ने कहा कि अमेरिका के परमाणु समझौते से हटने के जवाब में ईरान के परमाणु प्रतिबद्धताओं को कम करने पर चर्चा के लिए यूरोपीय दलों ने "नई स्थिति" पर चर्चा का अनुरोध किया था।

ईरान संघर्ष नहीं चाहता : टैंकर जब्ती के बाद विदेश मंत्री जरीफ ने कहा

ईरान के विदेश मंत्रालय ने कहा कि वियना में 28 जुलाई को ज्वाइंट कॉम्प्रिहेंसिव प्लान ऑफ एक्शन (जेसीपीओए) संयुक्त आयोग की असाधारण बैठक पर पर सहमति बनी है। यूरोपीय संघ ने इस बात की पुष्टि की है कि ब्रिटेन, चीन, फ्रांस, जर्मनी और रूस और अन्य समझौते में शामिल दूसरे देश रविवार को आयोजित होने वाली इस बैठक में शामिल होंगे।

वहीं दूसरी ओर ईरान के विदेश मंत्री जवाद जरीफ ने सोमवार को कहा कि तेल टैंकर जब्ती मामले को लेकर ईरान ब्रिटेन के साथ कोई संघर्ष नहीं चाहता है। यह ब्रिटेन के संभावित प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के नाम ईरान का सीधा संदेश है।

मानागुआ में जरीफ ने संवाददाताओं से कहा, ''10 डाउनिंग स्ट्रीट का रुख कर रहे बोरिस जॉनसन के लिए यह समझना बहुत जरूरी है कि ईरान संघर्ष नहीं चाहता है, ईरान परस्पर सम्मान पर आधारित सामान्य संबंधों का आकांक्षी है।" जरीफ फिलहाल मध्य अमेरिकी देश निकारागुआ की राजधानी मानागुआ में हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Iran to meet nuclear deal partners amid Gulf tanker crisis