ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेशकुरान का ज्ञान लें अमेरिकी छात्र, राफा में इजरायली नरसंहार की आग और भड़का रहा ईरान

कुरान का ज्ञान लें अमेरिकी छात्र, राफा में इजरायली नरसंहार की आग और भड़का रहा ईरान

राफा में फिलिस्तीनियों के नरसंहार पर ईरान अब खुलकर इजरायल के खिलाफ आ गया है। सर्वोच्च नेता अयातुल्ला खामेनेई ने अमेरिकी छात्रों से अपील की है कि वे इजरायल के खिलाफ लड़ते रहें।

कुरान का ज्ञान लें अमेरिकी छात्र, राफा में इजरायली नरसंहार की आग और भड़का रहा ईरान
Gaurav Kalaलाइव हिन्दुस्तान,तेहरानThu, 30 May 2024 02:53 PM
ऐप पर पढ़ें

हमास के खिलाफ युद्ध में मारे जा रहे निर्दोष फिलिस्तीनियों को लेकर दुनियाभर में इजरायल के खिलाफ गुस्सा बढ़ता जा रहा है। खासकर अमेरिकी विश्वविद्यालयों में बेंजामिन नेतन्याहू के खिलाफ जमकर विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। इस बीच ईरान राफा में हो रहे नरसंहार की आग को और भड़काने में लग गया है। मुस्लिम देश के सुप्रीम लीडर अयातुल्ला अली खामेनेई ने अमेरिकी छात्रों को कुरान का ज्ञान लेने की नसीहत दी है। अपने संदेश में उन्होंने कहा कि अमेरिकी छात्रों को कुरान पढ़ना और समझना चाहिए। अयातुल्ला का यह बयान अमेरिका में यहूदी छात्रों के साथ हिंसा की बढ़ती खबरों के बीच आई है।

इजरायल और हमास के बीच जंग का नया मैदान दक्षिणी गाजा का शहर राफा है। राफा में इजरायली सेना अंदर तक घुस चुकी है। खबर यह भी है कि इजरायली सेना ने राफा के कई इलाकों पर अपना कब्जा भी कर लिया है। अभी तक दो बड़े हवाई हमलों में इजरायल ने राहत शिविरों में रह रहे कई फिलिस्तीनियों को मार डाला। पहले हमले में 45 और फिर दूसरे हमले में 21 लोगों की जान चली गई। इजरायल के इस कृत्य की कई देशों ने नरसंहार से तुलना की है। इस बीच पहले से ही इजरायल पर बिदके ईरान ने अमेरिकियों को संदेश दिया है। ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला खामेनेई ने अमेरिकी छात्रों को कहा है कि वह इजरायल के खिलाफ अपना विरोध बंद न करें। उन्होंने अमेरिकी छात्रों से कुरान पढ़ने और उसे समझने की अपील की है।

बाइडेन सरकार की आलोचना
खामेनेई ने पत्र में जोर देकर कहा है कि "जैसे-जैसे इतिहास का पन्ना पलट रहा है, आप सही पक्ष में खड़े हैं।" उन्होंने अमेरिकी सरकार द्वारा इजरायल को दिए जा रहे समर्थन की कड़ी आलोचना की है। उन्होंने फिलिस्तीनियों के साथ इजरायली सरकार द्वारा किए जा रहे व्यवहार को दशकों से चला आ रहा नरसंहार और रंगभेद बताया। 

अमेरिकी विश्वविद्यालय में विरोध प्रदर्शन के बीच माहौल गरम
पिछले दो महीनों में, गाजा में युद्ध विराम की मांग भी चल रही है और इजरायल द्वारा फिलिस्तीनियों के प्रति क्रूरता भी बढ़ती जा रही है। हाल के दिनों में इजरायल ने हमास को जड़ से खत्म करने के अपने उद्देश्य की पूर्ति करने के लिए आम लोगों का जमकर उत्पीड़न किया है। इस बीच अमेरिका में भी कॉलेजों में इजरायल के खिलाफ विरोध प्रदर्शन बढ़ता जा रहा है। खासकर, यहूदी छात्रों के खिलाफ भी हिंसा की कई घटनाएं सामने आई हैं। छात्रों ने बताया कि वे लगातार असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। उन्हें खुलेआम धमकियां दी जा रही है। हाल ही में हुए एक सर्वेक्षण के अनुसार, इन विरोध प्रदर्शनों को देखने वाले 61% यहूदी छात्रों ने कबूला है कि प्रदर्शन धमकी भरे या अपमानजनक थे।