ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ विदेशईरान और तालिबान के बीच बढ़ी खटास, तेहरान ने बंद किए सभी कांसुलर सर्विस

ईरान और तालिबान के बीच बढ़ी खटास, तेहरान ने बंद किए सभी कांसुलर सर्विस

अफगानिस्तान में प्रदर्शनकारियों द्वारा काबुल और हेरात में ईरानी राजनयिक मिशनों पर पत्थर फेंके जाने के एक दिन बाद ईरान ने अफगानिस्तान में अगली सूचना तक सभी कांसुलर सेवाओं पर रोक लगा दी है।

ईरान और तालिबान के बीच बढ़ी खटास, तेहरान ने बंद किए सभी कांसुलर सर्विस
Aditya Kumarरॉयटर्स,दुबईTue, 12 Apr 2022 06:22 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

अफगानिस्तान में तालिबान के सत्ता में आने के बाद काबुल के पाकिस्तान और ईरान के संबंध खराब होते जा रहे हैं। ताजा अपडेट ये है कि ईरान ने तेहरान में अफगानिस्तान के राजदूत को बुलाकार खरी-खोटी सुनाई है। न्यूज एजेंसी रॉयटर्स ने ईरानी सरकारी टीवी के हवाले से बताया है कि अफगानिस्तान में प्रदर्शनकारियों द्वारा काबुल और हेरात में ईरानी राजनयिक मिशनों पर पत्थर फेंके जाने के एक दिन बाद ईरान अफगानिस्तान में सभी कांसुलर सेवाओं को रोक रहा है।

ईरान में अफगान लोगों को अपमानित किया गया?

ईरान में अफगानिस्तान के शरणार्थियों द्वारा आम ईरानी लोगों द्वारा परेशान और अपमानित करने के बाद अफगानिस्तान में ईरान के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन हुआ है। इसके कई वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किए जा रहे हैं लेकिन हिन्दुस्तान उन वीडियो की प्रामाणिकता की पुष्टि नहीं करता है। हालंकि ईरानी अधिकारियों ने इस बात से इनकार किया है कि अफगान शरणार्थियों के साथ दुर्व्यवहार हुआ है।

ईरान ने अगली सूचना तक बंद की सभी कांसुलर सेवा

ईरान के विदेश मंत्रालय ने बताया है कि तालिबान तेहरान के राजनयिकों की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार है। विदेश मंत्रालय ने अगली सूचना तक अफगानिस्तान में अपने सभी कांसुलर सेवाओं को रोकने की घोषणा की है।

ईरान में रह रहे पांच लाख से अधिक अफगान

हालांकि आम तौर पर ईरान और अफगानिस्तान के बीच संबंध ठीक रहे हैं लेकिन दोनों देशों के बीच 900 किलोमीटर के बॉर्डर पर लंबे वक्त से तनाव है। अफगानिस्तान से तस्करी को लेकर ईरान बेहद अलर्ट रहता है । हाल ही में ईरान के विदेश मंत्री अब्दुल्लाहियन ने बताया था कि ईरान में पांच लाख से अधिक अफगान नागरिक बिना डॉक्यूमेंट्स और डॉक्यूमेंट्स के साथ रहते हैं।  

epaper