DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

परमाणु समझौते को बचाने के लिए यूरोप के पास 60 दिन का वक्त: ईरान

iran  reuters photo

ईरान ने 2015 में उसके साथ हुए परमाणु समझौते को बचाए रखने के लिए अंतिम मौके के तौर विश्व शक्तियों को 60 दिन का समय दिया है। ईरान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अब्बास मूसावी ने सोमवार को पत्रकारों से कहा कि सितंबर के बाद इस समझौते को बचाए रखने के लिए ईरान आगे किसी ''अंतिम समयसीमा" की पेशकश नहीं करेगा।

ईरानी अधिकारियों ने एक दिन पहले कहा था कि समयसीमा के खत्म होते ही देश समझौते के अनुपालन के संबंध में कदम उठाना बंद कर देगा। मूसावी ने कहा कि ईरान ने अपने यूरोपीय सहयोगियों के साथ अब भी बातचीत के रास्ते खुले रखे हैं और उम्मीद जतायी कि वे अपनी प्रतिबद्धताओं को पूरा करने की दिशा में कदम उठायेंगे।

डोनाल्ड ट्रम्प की चेतावनी, बेहतर होगा परमाणु संवर्धन पर सतर्क रहे ईरान

वहीं दूसरी ओर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान को उसके यूरेनियम संवर्धन पर लगाई गई सीमा के आसन्न उल्लंघन को लेकर रविवार को आगाह किया। ट्रंप ने न्यू जर्सी के मॉरिसटाउन में संवाददाताओं से कहा, “बेहतर होगा कि ईरान सावधान रहे, क्योंकि आप एक कारण से यूरेनियम संवर्धन बढ़ाएंगे और मैं नहीं बताउंगा कि वह कारण क्या है। लेकिन यह सही नहीं है। बेहतर होगा वे सावधान रहें।”

ट्रंप के शीर्ष राजनयिक एवं विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने इससे पहले रविवार को कहा था कि परमाणु समझौते के तहत तय की गई सीमा के संभावित उल्लंघन के जवाब में ईरान को और सख्त प्रतिबंधों का सामना करना पड़ेगा।

यह सीमा उस परमाणु समझौते के तहत की गई थी जो अंतरराष्ट्रीय ताकतों एवं ईरान के बीच हुआ था लेकिन पिछले साल अमेरिका के इससे बाहर हो जाने की वजह से यह खतरे में पड़ गया है। समझौते के तहत निर्धारित की गई 3.67 प्रतिशत संवर्धन की सीमा 90 प्रतिशत के उस स्तर से बहुत नीचे है जो परमाणु हथियार बनाने के लिए जरूरी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Iran says Europe has 60 days to save nuclear deal