DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अमेरिकी प्रतिबंध से ड्रग्स, शरणार्थियों और पश्चिम देशों पर बढ़ेंगे हमले –ईरान

Iranian President Hassan Rouhani termed America’s withdrawal from the nuclear accord as ‘economic te

ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने यह अंदेशा जताया है कि अगर अमेरिकी प्रतिबंध से इरान की क्षमता कमजोर होती है तो इससे ड्रग्स की बाढ़, शरणार्थी और पश्चिम पर हमले बढ़ जाएंगे।

रूहानी ने देश के टेलीविजन चैलन पर लाइव बोलते हुए कहा- मैं उन लोगों को चेतावनी देता हूं जो प्रतिबंध लगा रहे हैं कि अगर इससे ड्रग्स और आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में ईरान कमजोर होता है... तो आप भी ड्रग्स की बाढ़, शरणार्थी, बम और आतंकवाद से सुरक्षित नहीं रह पाएंगे।

 

ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने अमेरिकी प्रतिबंधों को "आर्थिक आंतकवाद" बताते हुये शनिवार को विभिन्न देशों से यात्रा पर आये अधिकारियों से संयुक्त मोर्चे को बढ़ाना देने का आग्रह किया।

अमेरिका ने ईरान के साथ 2015 में हुये परमाणु समझौते से खुद को अलग करते हुये उस पर एक बार फिर से कड़े प्रतिबंध लगा दिये। रूहानी ने टेलीविजन पर प्रसारित भाषण में कहा, "ईरान जैसे सम्माननीय देश के खिलाफ अमेरिका के अन्यायपूर्ण और गैर-कानूनी प्रतिबंध स्पष्ट रूप से आतंकवाद का उदाहरण है।"

ये भी पढ़ें: राष्ट्रपति रूहानी की धमकी, कहा-यूएस नहीं रोक पाएगा ईरान का तेल निर्यात

रूहानी ने आतंकवाद एवं क्षेत्रीय सहयोग पर आयोजित सम्मेलन में यह बात कही। सम्मेलन में अफगानिस्तान, चीन, पाकिस्तान, रूस और तुर्की के संसद अध्यक्षों ने शिरकत की। उन्होंने कहा, "हम हमले का सामना कर रहे हैं जो कि न सिर्फ हमारी आजादी और पहचान के लिए खतरा है बल्कि हमारे लंबे समय से चले आ रहे संबंधों को नुकसान पहुंचा रहा है।"

उन्होंने कहा, "जब वे चीन के व्यापार पर दबाव डालते हैं, हम सभी को इससे नुकसान होता है ... जब तुर्की को सजा दे रहे हैं तो हम सबको सजा मिल रही है। किसी भी समय जब वे रूस को धमकी देते हैं हम सबको अपनी सुरक्षा खतरे में लगती है।"

रूहानी ने कहा, "जब वे ईरान पर प्रतिबंध लगाते हैं तो वे हम सभी को अंतरराष्ट्रीय व्यापार, ऊर्जा सुरक्षा और सतत विकास से वंचित करते हैं। वास्तव में वह हम सब पर प्रतिबंध लगाते हैं।"

ईरान के राष्ट्रपति ने कहा, "हम यहां यह कहने के लिये हैं कि हम इस तरह की गुस्ताखी को बर्दाश्त नहीं करेंगे।" उन्होंने यूरोप से भी कहा कि वह अमेरिकी प्रतिबंधों को नजरंदाज करते हुये ईरान के साथ व्यापार संबंध बनाये रखे। अमेरिका के ईरान के साथ परमाणु समझौते से हटते समय यूरोपीय देशों ने उसका कड़ा विरोध किया था।

ये भी पढ़ें: ईरान के चाबहार में आतंकी हमले में 4 की मौत, भारत ने की कड़ी निंदा

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Iran President Hassan Rouhani says US sanctions may lead to deluge of drugs refugees and attacks on West