ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ विदेश2+2 वार्ता: 'भारत के साथ US के संबंधों को सबसे जरूरी में से एक मानते हैं जो बाइडन'

2+2 वार्ता: 'भारत के साथ US के संबंधों को सबसे जरूरी में से एक मानते हैं जो बाइडन'

India-US 2+2 Dialogue: व्हाइट हाउस प्रेस सचिव जेन साकी ने शुक्रवार को ब्रीफिंग के दौरान कहा, 'राष्ट्रपति बाइडन भारत के साथ हमारी साझेदारी को दुनिया के सबसे अहम संबंधों में से एक मानते हैं।

2+2 वार्ता: 'भारत के साथ US के संबंधों को सबसे जरूरी में से एक मानते हैं जो बाइडन'
Nisarg Dixitलाइव हिंदुस्तान,वॉशिंगटनSat, 09 Apr 2022 06:50 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन भारत के साथ अपने मुल्क के संबंधों दो 'सबसे महत्वपूर्ण में से एक' मानते हैं। इस बात की जानकारी व्हाइट हाउस ने शुक्रवार को दी है। खास बात है कि दोनों देशों के बीच अगले सप्ताह मंत्री स्तरीय 2+2 वार्ता होनी है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री एस जयशंकर सोमवार को अपने अमेरिकी समकक्षों लॉयड ऑस्टिन और एंटनी जे ब्लिंकन से मुलाकात करेंगे।

व्हाइट हाउस प्रेस सचिव जेन साकी ने शुक्रवार को ब्रीफिंग के दौरान कहा, 'राष्ट्रपति बाइडन भारत के साथ हमारी साझेदारी को दुनिया के सबसे अहम संबंधों में से एक मानते हैं। वह उम्मीद करते हैं कि यह वार्ता भारत के साथ हमारे काम और हिंद-प्रशांत क्षेत्र मं साझा लक्ष्यों को आगे बढ़ाएगा।' उन्होंने कहा, 'हम राष्ट्रपति पुतिन के यूक्रेन पर युद्ध के नतीजों को लेकर और ऊर्जा और भोजन के मामले में संकट को लेकर चर्चाएं जारी रखेंगे। यह कई टॉपिक्स को कवर करेगा।'

विदेश मंत्रालय की तरफ से जारी बयान के अनुसार, '2+2 वार्ता जरूरी क्षेत्रीय और वैश्विक घटनाक्रमों और हम कैसे आम हितों और चिंताओं से जुड़े मुद्दों पर काम कर सकते हैं, इसपर अपने विचार साझा करने का मौका देगा।' खास बात है कि अमेरिका समेत कई देशों ने मॉस्को पर प्रतिबंध लगा दिए हैं। ऐसे में भारत का रूस से तेल आयात करना एक बड़ा मुद्दा है, जो बीते कई हफ्तो से उठ रहा है।

बीते हफ्ते जब सवाल किया गया कि भारत में रूसी ऊर्जा का आयात उनके कुल आयात का केवल एक से दो फीसदी ही है। इसपर साकी ने कहा था, 'हर देश अपने फैसले खुद लेगा।'

रक्षा क्षेत्र को लेकर होगी खास मुलाकात
भारतीय रक्षा मंत्रालय ने शुक्रवार को जानकारी दी, 'श्राजनाथ सिंह रक्षा औद्योगिक सहयोग और सैन्य-से-सैन्य संबंधों के माध्यम से क्षमता निर्माण सहित रक्षा सहयोग के बारे में चर्चा करने के लिए अमरीकी रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन से पेंटागन में अलग से मुलाकात करेंगे। वाशिंगटन डीसी की यात्रा के बाद हवाई द्वीप स्थित यूएस इंडो-पैसिफिक कमांड (इंडोपैकोम) के मुख्यालय का दौरा करना भी रक्षा मंत्री के कार्यक्रम में शामिल है।'

epaper