DA Image
25 नवंबर, 2020|12:12|IST

अगली स्टोरी

फ्रांस के खिलाफ मुस्लिम जगत में बढ़ा आक्रोश, दुनियाभर में हजारों लोग सड़कों पर उतरे

protest against france president emmanuel macron  file pic

पाकिस्तान, लेबनान से लेकर फलस्तीनी क्षेत्र समेत कई अन्य जगहों पर हजारों मुसलमान फ्रांस के खिलाफ प्रदर्शन के लिए शुक्रवार को सड़कों पर उतरे। फ्रांस के राष्ट्रपति ने पैगंबर के कार्टून छापने के संबंध में अभिव्यक्ति के अधिकार की रक्षा का संकल्प लिया है जिसके बाद से मुस्लिम जगत में उबाल आ गया है। 

पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में प्रदर्शन हिंसक हो गया जब करीब 2000 लोगों ने फ्रांस के दूतावास की ओर जाने की कोशिश की। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े और लाठियां चलाई। पाकिस्तान के लाहौर में प्रदर्शनकारियों ने नारेबाजी की और कई सड़कों को रोक कर दिया। मुल्तान में प्रदर्शनकारियों ने फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों का पुतला जलाया। 

ये भी पढ़ें: फ्रांसीसी राष्ट्रपति के खिलाफ प्रदर्शन, MLA सहित दो हजार के खिलाफ केस

यरूशलम में सैकड़ों फलस्तीनी ने अल अक्सा मस्जिद के बाहर मैक्रों के खिलाफ प्रदर्शन किया। उन्होंने प्रदर्शन के दौरान नारे लगाए, ''पैगंबर मोहम्मद के लिए हम कुर्बानी देंगे।'' पुराने शहर में इजराइल पुलिस के साथ कुछ युवाओं की भिड़ंत हो गई। पुलिस ने कहा कि उन्होंने भीड़ को तितर बितर कर दिया और तीन लोगों को हिरासत में लिया। लेबनान की राजधानी बेरूत में भी लोगों ने प्रदर्शन किए 

बांगलादेश की राजधानी ढाका में प्रदर्शन में करीब 50,000 लोग शामिल हुए और मैक्रों का पुतला फूंका। लोगों ने 'नस्लवाद' रोकने 'इस्लाम' के खिलाफ नफरत रोकने के नारे लगाए और फ्रांस के उत्पादों का बहिष्कार करने की अपील की। अफगानिस्तान में भी इस्लामी पार्टी हज्ब-ए-इस्लामी के सदस्यों ने फ्रांस का झंडा जलाया।

बांग्लादेश, पाकिस्तान से लेकर कुवैत में पिछले सप्ताह से फ्रांस के उत्पादों का बहिष्कार करने की अपील जोर पकड़ रही है । सोशल मीडिया पर भी फ्रांस के खिलाफ मुहिम चलाई जा रही है। तुर्की ने भी कड़े शब्दों में फ्रांस की आलोचना की है।

ये भी पढ़ें: दर्दनाक सजा मिलेगी...फ्रांसीसी राष्ट्रपति पर जाकिर नाइक ने उगला जहर

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Increased anger against France in the Muslim world thousands of people took to the streets in different countries