अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ब्रिटेन जाने वाले भारतीय छात्रों की संख्या में इजाफा

भारतीय विद्यार्थी (साभारः गूगल)

भले ही मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने ब्रिटेन के एक वर्षीय पीजी कार्यक्रम को भारत में मान्यता नहीं दी हो, लेकिन ब्रिटेन में उच्च शिक्षा के लिए जाने वाले भारतीय छात्रों की संख्या में पिछले तीन साल से लगातार इजाफा हो रहा है। अकेले इस साल उच्च शिक्षा के लिए ब्रिटेन जाने वाले भारतीय छात्रों की संख्या में 32 फीसदी का इजाफा हुआ है। हालांकि, संख्या के लिहाज से ये आंकड़ा अमेरिका, कनाडा और ऑस्ट्रेलिया से अब भी खासा कम है।

दाऊद के बाद छोटा शकील के बेटे ने अपना आध्यामिक रास्ता, बना 'हाफिज-ए-कुरान'

ब्रिटिश उच्चायोग के आंकड़ों के अनुसार, जून 2018 में समाप्त अकादमिक वर्ष में 15390 भारतीयों छात्रों को टी4 वीजा प्रदान किया गया। यह पिछले साल के मुकाबले 32 फीसदी अधिक है। इसके अलावा, इस दौरान 6500 भारतीय छात्र अल्पकालिक अध्ययन के लिए भी ब्रिटेन का रुख किया। भारत में ब्रिटिश उच्चायुक्त सर डोमिनिक एस्क्विथ ने इन आंकड़ों पर टिप्पणी करते हुए कहा कि मुझे खुशी है कि भारतीय छात्रों की संख्या में 32 फीसदी का इजाफा हुआ है। मैं इस बात का स्वागत करता हूं कि अंतरराष्ट्रीय छात्र-छात्राएं उच्च शिक्षा के लिए हमारे विश्वस्तरीय संस्थानों का चुनाव कर रहे हैं और इन संस्थानों में जगह पाने में कामयाब हो रहे हैं।  

अमेरिका: DSGMC प्रमुख मंजीत पर खालिस्तान समर्थकों का हमला, एक हफ्ते में दूसरा हमला

मालूम हो, भारत से हर साल पांच लाख से अधिक छात्र-छात्राएं उच्च शिक्षा के लिए विदेश का रुख करते हैं। विदेशी शिक्षा के लिए भारतीयों की पहली पसंद अमेरिका है, जहां हर साल दो लाख से अधिक भारतीय छात्र शिक्षा हासिल करते हैं। कनाडा और ऑस्ट्रेलिया उच्च शिक्षा के लिए क्रमश: दूसरे और तीसरे सबसे पसंदीदा देश हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:increase in the indian students going to britain for studies