ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेशशहबाज के मंत्री के बिगड़े बोल, कहा - पाकिस्तान की भलाई के लिए इमरान जेल में ही सही

शहबाज के मंत्री के बिगड़े बोल, कहा - पाकिस्तान की भलाई के लिए इमरान जेल में ही सही

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री को लेकर शहबाज सरकार के मंत्री का एक बयान सामने आया है। मंत्री ने कहा,'पाकिस्तान की भलाई के लिए इमरान खान को कम से कम पांच साल के लिए जेल में ही रखना चाहिए।

शहबाज के मंत्री के बिगड़े बोल, कहा - पाकिस्तान की भलाई के लिए इमरान जेल में ही सही
Upendraलाइव हिंदुस्तान,इस्लामाबादTue, 18 Jun 2024 06:02 PM
ऐप पर पढ़ें

इस्लामाबाद: पाकिस्तान की आर्थिक हालत को ठीक बनाए रखने के लिए पूर्व पीएम इमरान खान को जेल की सलाखों के पीछे ही रखना चाहिए। यह कहना है पाकिस्तान के मंत्री एहसान इकबाल का, अगले पांच साल में पाकिस्तान की वर्तमान सरकार का कार्यकाल पूरा होगा। एहसान ने कहा कि लोग हमारे पास आते हैं और कहते है कि अगर पाकिस्तान को तरक्की करनी है तो इमरान खान को सलाखों के पीछे ही रखना होगा। एहसान का यह बयान पीएम शहबाज शरीफ के उस बयान के बाद आया जिसमें देश को आईएमएफ के लोन से आजाद कराने की बात कही गई थी। शरीफ ने कहा था कि पाकिस्तान की सरकार आईएमएफ के पास एक आखिरी बार लोन लेने जा रही है लेकिन मैं आवाम को यह भरोसा दिलाता हूं कि अगर हम मिलकर मेहनत करेंगे तो यह पाकिस्तान के इतिहास का आखिरी लोन होगा।

इकबाल ने कहा कि अगर इमरान जेल से बाहर आते हैं तो देश में फिर से दंगे होंगे और अस्थिरता आएगी, देश अभी उस स्थिति में नहीं है कि इस अस्थिरता को झेल सके। लोगों का कहना यही है कि इमरान को जेल में ही रहना चाहिए। इमरान खान को गुस्सैल आदमी कहते हुए इकबाल ने कहा कि उन्हें यह पता ही नहीं होता कि वह किससे क्या कह रहे हैं या क्या कर रहे है।

मंत्री ने लीगल सिस्टम पर भी सवाल उठाते हुए  कहा कि इमरान खान लगातार कानून व्यवस्था के कंधों पर सवार रहे, कोर्ट पर सवाल आज इसलिए उठ रहे हैं क्योंकि कोर्ट से कुछ ऐसे फैसले आए जिसमें सीधा- सीधा इमरान खान को फायदा पहुंचाया गया। न्यायपालिका और सैन्य व्यवस्था होते आपसी संघर्ष पर सवाल पूछने पर इकबाल ने कहा कि दोनों को सोचना चाहिए कि देश के लिए क्या बेहतर है। देश के सभी संस्थानों को आपस में तालमेल बनाकर चलना चाहिए क्योंकि अगर देश के संस्थान ही आपस में लड़ेंगे तो देश की संप्रभुता खतरे में आ जाएगी।