ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ विदेशइमरान खान की बेदखली पर क्या है पाकिस्तानियों की राय, सर्वे में चौंकाने वाले नतीजे

इमरान खान की बेदखली पर क्या है पाकिस्तानियों की राय, सर्वे में चौंकाने वाले नतीजे

इमरान खान सत्ता से बेदखल हो चुके हैं। पाकिस्तान की जनता में किए गए सर्वे से सामने आया है कि 57 फीसदी लोग इमरान खान के जाने से खुशी हैं। जबकि 43 फीसदी लोग अभी भी इमरान खान को एक ईमानदार नेता है।

इमरान खान की बेदखली पर क्या है पाकिस्तानियों की राय, सर्वे में चौंकाने वाले नतीजे
Gaurav Kalaहिन्दुस्तान टाइम्स,नई दिल्लीWed, 13 Apr 2022 04:20 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

पीएम पद गंवा चुके इमरान खान के लिए एक और झटके वाली खबर है। अविश्वास प्रस्ताव पास होने के बाद पाकिस्तान में एक सर्वे किया गया जिसमें 57 फीसदी लोगों ने इमरान खान के सरकार से बाहर होने पर खुशी जताई है। जबकि 43 फीसदी लोग अभी भी इमरान खान को एक ईमानदार नेता मानते हैं। गैलप पाकिस्तान के सर्वे में ज्यादातर लोगों ने देश की खराब आर्थिक स्थिति, बेरोजगारी और महंगाई को लेकर इमरान खान के खिलाफ अपना गुस्सा निकाला है।

गैलप पाकिस्तान के एक सर्वेक्षण से  पता चला है कि 43% लोग इमरान खान को बाहर करने से खुश नहीं थे, जबकि बाकी 57% लोग खुश थे कि खान को सरकार से बाहर होना पड़ा। यह सर्वे 1000 पुरुषों और महिलाओं से पूछे गए सवालों के आधार पर है। रिपोर्ट में कहा गया है कि शनिवार रात विश्वास मत के तुरंत बाद 100 से अधिक जिलों में 1,000 पुरुषों और महिलाओं पर सर्वेक्षण किया गया था। जो लोग इमरान खान के निष्कासन से नाखुश थे, वे अभी भी खान को एक ईमानदार राजनेता मानते थे। जबकि खान के खिलाफ गुस्सा ज्यादातर विफल अर्थव्यवस्था के आधार पर था। 

इससे पहले इमरान खान की पार्टी पीटीआई ने दावा किया कि इमरान खान बुधवार को पेशावर में 'जलसा' करेंगे, जबकि 21 अप्रैल को लाहौर में एक सार्वजनिक रैली की योजना बनाई जा रही है। सत्ता से बेदखल होने से पहले भी इमरान खान जल्दी चुनाव कराने का दबाव बना रहे थे और आज के जलसा को पहले चुनाव अभियान के तौर पर देखा जा रहा है।

इमरान खान की पार्टी से जुड़े आठ गिरफ्तार
पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा के खिलाफ कथित तौर पर ऑनलाइन अभियान चलाने के आरोप में इमरान खान की पार्टी के आठ सोशल मीडिया कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया है। संघीय जांच एजेंसी के अनुसार, खुफिया एजेंसियों से सेना प्रमुख और शीर्ष अदालत के न्यायाधीशों के खिलाफ सोशल मीडिया अभियान में शामिल 50 संदिग्धों की सूची मिली और उनमें से आठ को हिरासत में ले लिया गया है।

पाकिस्तान की राजनीति से सेना का किनारा
पाकिस्तान की सेना ने आधिकारिक तौर पर इमरान बनाम विपक्षी उथल-पुथल से खुद को दूर कर लिया है। इमरान खान के जाने के बाद सेना ने कहा कि वो देश की रक्षा के लिए हमेशा सरकारी संस्थाओं के साथ खड़ी रही है और बिना किसी समझौते के हमेशा रहेगी।

जनरल बाजवा ने एक कार्यक्रम में कहा, "पाकिस्तानी सेना अपनी जिम्मेदारियों से अवगत है और सभी परिस्थितियों में सभी आंतरिक और बाहरी खतरों के खिलाफ पाकिस्तान की क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता की रक्षा करना जारी रखेगी।"

epaper