DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इमरान खान की सरकार ने चीन के साथ CPEC करार को बताया अनुचित

Pakistan New Prime Minster Imran Khan (AP File Photo)

पाकिस्तान की नई इमरान खान सरकार ने चीन-पाक आर्थिक गलियारे (सीपीईसी)को अनुचित बताया है। प्रधानमंत्री इमरान खान चीन की महत्वकांक्षी बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव (बीआरआई) परियोजना के तहत पूर्व में हुए समझौतों पर फिर से बातचीत की योजना बना रहे हैं। एक मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान की नई सरकार का मानना है कि यह समझौता अनुचित रूप से चीनी कंपनियों के पक्ष में है। परियोजना अरबों डॉलर की सीपीईसी योजना से जुड़ी है। इसमें एशिया और यूरोप को पुराने सिल्क रोड से जोड़ने की योजना है। यह परियोजना पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) से गुजर रही है। पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ सरकार के मंत्री और सलाहकारों का कहना है कि समझौते से चीनी कंपनियों को अनुचित रूप से लाभ हुआ है।

पिछली सरकार ने की गलतियां
पाक अधिकारियों के हवाले से रिपोर्ट में बताया कि इमरान सरकार बीआरआई में अपनी भूमिका की समीक्षा करेगी और एक दशक से भी पहले हुए व्यापार समझौते को फिर से तय किया जाएगा। प्रधानमंत्री इमरान खान के वाणिज्य, कपड़ा, उद्योग और उत्पादन व निवेश मामलों के सलाहकार अब्दुल रज्जाक दाऊद ने कहा, सीपीईसी पर चीन के साथ डील करते हुए पाकिस्तान की पिछली सरकार ने काफी गलतियां की हैं। उन्होंने होमवर्क सही तरीके से नहीं किया और इससे ज्यादा से ज्यादा लाभ हो, ऐसा समझौता नहीं किया गया।

2015 में हुई शुरुआत
सीपीईसी की शुरुआत 2015 में हुई। इसमें सड़क, रेलवे और ऊर्जा परियोजनाओं को चीन के संसाधन समृद्ध शिनजिआंग उगुर स्वायत्त क्षेत्र को पाकिस्तान के अरब सागर में स्थित रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण ग्वादर बंदरगाह को जोड़ने की योजना है।  पूर्व में प्रधानमंत्री इमरान खान ने सीपीईसी परियोजनाओं में पारदर्शिता का अभाव तथा भ्रष्टाचार को लेकर जेल में बंद पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की आलोचना की थी। उन्होंने मौजूदा सीपीईसी अनुबंधों का पूरा ब्योरा सार्वजनिक करने का संकल्प जताया है जो गोपनीय रखा गया है।

चीन को काफी लाभ मिला
इमरान खान के वाणिज्य, परिधान, उद्योग एवं उत्पादन तथा निवेश मामलों के सलाहकार अब्दुल रज्जाक दाऊद के हवाले ब्रिटेन के अखबार में लिखा गया है कि पूर्व सरकार ने सीपीईसी के मामले में चीन के साथ बातचीत में अच्छा काम नहीं किया। उन्होंने अपना होमवर्क ठीक से नहीं किया और बेहतर तरीके से वार्ता नहीं की जिससे उन्हें काफी लाभ मिला।  

परियोजना ने पाक को कर्ज संकट में फंसा दिया
कर्ज में डूबे पाकिस्तान में 50 अरब डॉलर की विवादित सीपीईसी परियोजना को लेकर बहस शुरू हो गई है। आरोप लगाए जा रहे हैं कि चीन के कर्ज ने पाकिस्तान को गहरे संकट में फंसा दिया है। हालांकि हाल में पाकिस्तान पहुंचे चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने कहा कि प्रॉजेक्ट के कारण पाकिस्तान पर कर्ज थोपा नहीं गया।  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Imran khan Government says cpec with china unfair to pak