ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेशतुम्हारे देश में कोई जिंदा नहीं बचेगा, हिजबुल्लाह ने इजरायल को दी युद्ध की खुली धमकी; क्या करेंगे नेतन्याहू

तुम्हारे देश में कोई जिंदा नहीं बचेगा, हिजबुल्लाह ने इजरायल को दी युद्ध की खुली धमकी; क्या करेंगे नेतन्याहू

हिजबुल्लाह प्रमुख हसन नसरुल्लाह ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर वे पूर्ण रूप से युद्ध की स्थिति में आ गए तो इजरायल में कोई भी जगह नहीं छोड़ी जाएगी।

तुम्हारे देश में कोई जिंदा नहीं बचेगा, हिजबुल्लाह ने इजरायल को दी युद्ध की खुली धमकी; क्या करेंगे नेतन्याहू
Himanshu Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 20 Jun 2024 06:05 PM
ऐप पर पढ़ें

इजरायल और हमास के साथ जारी जंग में लेबनानी समूह हिजबुल्लाह ने एक बार फिर इजरायल को चेतावनी दी है। हिजबुल्लाह प्रमुख हसन नसरुल्लाह ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर वे पूर्ण रूप से युद्ध की स्थिति में आ गए तो इजरायल में कोई भी जगह नहीं छोड़ी जाएगी। हिजबुल्लाह प्रमुख ने साथ ही साइप्रस को इजरायल की मदद करने के लिए धमकी भी दी है। हसन नसरल्लाह ने साइप्रस को धमकी देते हुए कहा कि अगर उसने इजरायल के लिए अपने हवाई अड्डे खोले तो उसे भी नुकसान होगा।

अरब न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, नसरल्लाह ने एक टीवी पर दिए अपने बयान मे कहा, "दुश्मन अच्छी तरह से जानता है कि हमने खुद को सबसे बुरी स्थिति के लिए भी तैयार कर लिया है। अगर जंग हुई तो और कोई भी जगह हमारे रॉकेटों से नहीं बचेगी।" नसरल्लाह ने कहा कि उनके ईरान समर्थित समूह को सूचित किया गया था कि अगर हिजबुल्लाह ने इजरायली हवाई अड्डों पर हमला किया तो इजराइल साइप्रस में हवाई अड्डों और ठिकानों का उपयोग कर सकता है।

बता दें कि साइप्रस यूरोपीय संघ का एक सदस्य है, जिसके इजरायल और लेबनान के साथ अच्छे संबंध हैं। साइप्रस दोनों देशों के तट के करीब स्थित है। वहीं नसरल्लाह ने धमकी भरे लहजे में कहा, "लेबनान को निशाना बनाने के लिए इजरायली दुश्मन के लिए साइप्रस के हवाई अड्डों और ठिकानों को खोलना का मतलब होगा कि साइप्रस सरकार युद्ध का हिस्सा है, और इसका मतलब युद्ध के बदले युद्ध ही होता है।"

उल्लेखनीय है कि आठ अक्टूबर, 2023 को लेबनान-इजरायल सीमा पर तनाव बढ़ गया। इसके एक दिन पहले इजरायल पर हमास के हमले के साथ एकजुटता दिखाने के लिए हिजबुल्लाह द्वारा इजरायल की ओर रॉकेट दागे गए थे। इसके बाद इजरायल ने जवाबी कार्रवाई करते हुए दक्षिणपूर्वी लेबनान की ओर भारी गोलीबारी की। लेबनानी सुरक्षा और चिकित्सा अधिकारियों द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार संघर्ष की शुरुआत के बाद से 540 लोग मारे गए हैं, जिनमें 346 हिजबुल्लाह सदस्य और 100 नागरिक शामिल हैं।

Advertisement