DA Image
25 जनवरी, 2020|5:58|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इतिहास में पहली बार रूस में हीरे के अंदर मिला हीरा

diamond found inside diamond

प्रकृति ने कितनी अनूठी और बेशकीमती चीजें दुनिया को दी हैं। इसका एक उदाहरण साइबेरिया की एक खदान में देखने को मिला। जहां एक हीरे के अंदर एक और हीरा मिला है। इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है। रूस की खदान कंपनी अलरोसा पीजेएससी ने शुक्रवार को इसकी जानकारी दी। कंपनी ने दावा किया कि हीरा 80 करोड़ साल से ज्यादा पुराना हो सकता है। मैट्रीओशका हीरे का वजन 0.62 कैरट है, जबकि इसके अंदर के पत्थर (हीरे) का वजन 0.02 कैरट है। 

क्या है मैट्रीओशका डायमंड
घटती आकार की लकड़ी की गुड़िया के सेट एक दूसरे के अंदर रखा जाता है। इसे घटते हुए क्रम रखा जाता है। मैट्रीओशका डायमंड भी इसी क्रम का अनुसरण करता है।   

कई मेथड से पत्थर की जांच की 
वैज्ञानिकों ने एक्स-रे माइक्रोटोमोग्राफी के साथ स्पेक्ट्रोस्कोपी के कई अलग-अलग मेथड का उपयोग करके पत्थर की जांच की। अलरोसा के एक प्रवक्ता ने कहा कि कंपनी की योजना आगे के विश्लेषण के लिए अमेरिका के जेमोलॉजिकल इंस्टीट्यूट को मैट्रीओशका हीरा भेजने की है।

प्रकृति की अनूठी रचना 
अलरोसा के 'रिसर्च एंड डेवलपमेंट जियोलॉजिकल एंटरप्राइज' के उपनिदेशक ओलेग कोवलचुक ने कहा कि जहां तक हम जानते हैं वैश्विक हीरे के खनन के इतिहास में अभी तक इस तरह का हीरा नहीं मिला है। यह वास्तव में प्रकृति की एक अनूठी रचना है। खासकर जब प्रकृति को शून्यता पसंद नहीं है। 

न्यूरबा खदान से निकला 
यह हीरा साइबेरियाई क्षेत्र यकुशिया के न्यूरबा खदान से निकला, लेकिन इसको याकुत्स्क डायमंड ट्रेड एंटरप्राइज ने छांटा, जिसने कीमती पत्थर की प्रकृति की खोज की और विश्लेषण के लिए रिसर्च एंड डेवलपमेंट जियोलॉजिकल एंटरप्राइज को दिया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:For the first time in history diamond found inside diamond