DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रत्यर्पण विधेयक: हांगकांग में प्रदर्शनकारियों की दूसरी बड़ी जीत, कैरी लाम के इस्तीफे की मांग तेज

hong kong protest againt extradition bill

चीन के स्वायत्त प्रांत हांगकांग में लगातार चल रहे ऐतिहासिक प्रदर्शन में प्रदर्शनकारियों को दूसरी बड़ी जीत मिली है। सोमवार को दबाव में आकर हांगकांग सरकार ने मुख्य प्रदर्शनकारी जोशुआ वोंग को रिहा कर दिया। यहां की सड़कों पर प्रदर्शन जारी है। हांगकांग के लोकतंत्र समर्थक कार्यकर्ता माने जाने वाले वोंग लगातार हांगकांग मुख्य प्रशासक कैरी लाम के इस्तीफे की मांग उठे रहे हैं। जिसके कारण उन्हें हिरासत में ले लिया गया था। लगभग दस लाख प्रदर्शनकारियों ने लाम के इस्तीफे की मांग तेज कर दी है। 

विधेयक निलंबन थी पहली बड़ी जीत: हांगकांग में पिछले सप्ताह बुधवार को प्रदर्शन शुरू हुआ था। सभी प्रदर्शनकारी मांग कर रहे थे कि हांगकांग सरकार ने प्रत्यर्पण संबंधी जो विधेयक प्रस्तावित किया है, उसे वापस लिया जाए। यह विधेयक स्वायत्त प्रांत हांगकांग से किसी को अपराधी बनाकर चीन भेजे जाने का रास्ता खोल सकता था। लगातार हुए प्रदर्शन से सरकार ने विधेयक निलंबित कर दिया, जो प्रदर्शनकारियों की बड़ी जीत थी। 

मुख्य नेता लाम को मांगनी पड़ी माफी: शनिवार को विधेयक निलंबित किए जाने के बाद भी रविवार को प्रदर्शनकारियों ने रैली की, जिसमें बीस लाख लोग शामिल थे। इस रैली में कैरी लाम के इस्तीफे की मांग उठी। जिससे दबाव में आयीं हांगकांग की मुख्य प्रशासक कैरी लाम ने सार्वजनिक रूप से माफी मांगी थी।

माफी स्वीकार नहीं, इस्तीफा चाहिए 
प्रदर्शनकारियों ने सोमवार सुबह हांगकांग की विधान परिषद के बाहर एकत्र होकर शांतिपूर्ण प्रदर्शन किया और कहा कि उन्हें माफी स्वीकार नहीं है। सभी ने लाम के इस्तीफे की मांग करते हुए नारे लगाए। हालांकि सोमवार को प्रदर्शनकारियों ने धैर्य दिखाते हुए पुलिस से किसी भी तरह के टकराव से बचने की कोशिश की। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को सड़कें खाली करने को कहा तो वे पार्क की ओर रवाना हो गए।

दीर्घकालिक प्रदर्शन बनाने की तैयारी 
हांगकांग में विवादित प्रत्यर्पण विधेयक से शुरू हुआ अनिश्चित कालीन प्रदर्शन बढ़ता ही जा रहा है। कार्यकर्ता ली चेउक-यान ने कहा कि यह एक दिन का प्रदर्शन नहीं है, हम इसे दीर्घकालिक बनाने पर रणनीति बना रहे हैं। अगर कैरी लाम हमारी पांच मांगें नहीं मानतीं तो लोग वापस आएंगे और संघर्ष जारी रहेगा। 

कार्य बहिष्कार करेंगे आम नागरिक 
प्रदर्शनकारियों ने हांगकांग निवासियों से अपील की है कि वे कार्य बहिष्कार करें। माना जा रहा है कि 20 लाख की संख्या तक पहुंच चुके प्रदर्शनकारियों के दायरे के बाद अब आम नागरिक यह अपील स्वीकार करके विरोध में शामिल होंगे। 

चीनी मीडिया ने चुप्पी साधी 
चीन के सरकारी मीडिया ने इस पर पूरी तरह चुप्पी साधे रखी। प्रदर्शनों के बारे में न तो चीन के सरकारी प्रसारक सीसीटीवी के मुख्य समाचार बुलेटिनों में दिनभर कोई खबर आई और न ही सोशल मीडिया मंचों पर रैली का जिक्र या कोई तस्वीर दिखाई दी।

ऐतिहासिक है यह प्रदर्शन
हांगकांग की कुल आबादी 74 लाख से कुछ अधिक है। ब्रिटेन के उपनिवेश रहे हांगकांग को साल 1997 में चीन के सुपुर्द कर दिया गया था। तब यहां अभूतपूर्व प्रदर्शन हुए थे। जिसके बाद हाल में जारी प्रदर्शन ऐतिहासिक हैं। माना जा रहा है कि भविष्य में हांगकांग में लोकतंत्र की मांग कर सकती हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Extraditions Bill Hong Kong activist Joshua Wong leaves jail vows to join protests