ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News विदेशजहर देने के लिए नहीं मिली नसें, टल गई सीरियल किलर की सजा-ए-मौत; अधिकारी परेशान

जहर देने के लिए नहीं मिली नसें, टल गई सीरियल किलर की सजा-ए-मौत; अधिकारी परेशान

इडाहो सुधार विभाग (आईडीओसी) के निदेशक जोश टेवाल्ट ने कहा कि क्रीच के हाथों और पैरों में आईवी लाइन लगाने के आठ प्रयास किए गए। इसके बाद उसकी सजा-ए-मौत को टाल दिया गया।

जहर देने के लिए नहीं मिली नसें, टल गई सीरियल किलर की सजा-ए-मौत; अधिकारी परेशान
Amit Kumarलाइव हिन्दुस्तान,इडाहोThu, 29 Feb 2024 02:53 PM
ऐप पर पढ़ें

अमेरिका में खूंखार अपराधियों को जहर देकर मारने का प्रावधान है। लेकिन एक अपराधी की सजा उस वक्त टाल दी गई जब उसके शरीर में एक भी नस नहीं मिली। मामला अमेरिकी राज्य इडाहो का है। यहां एक दोषी सीरियल किलर को घातक इंजेक्शन द्वारा दी जाने वाली सजा बुधवार को रोक दी गई क्योंकि मेडिकल टीम इंट्रावेनस (आईवी इंजेक्शन) नहीं डाल पाई। जेल अधिकारियों और गवाहों ने कहा कि 73 वर्षीय थॉमस क्रीच को एक घंटे के लिए फांसी वाले रूम में एक मेज से बांध दिया गया था। इस दौरान जहरीली दवाएं देने के लिए आईवी इंजेक्शन लगाने के बार-बार प्रयास किए गए थे।

इडाहो सुधार विभाग (आईडीओसी) के निदेशक जोश टेवाल्ट ने कहा कि क्रीच के हाथों और पैरों में आईवी लाइन लगाने के आठ प्रयास किए गए। इसके बाद उसकी सजा-ए-मौत को टाल दिया गया। जोश टेवाल्ट ने इडाहो मैक्सिमम सिक्योरिटी इंस्टीट्यूशन में संवाददाताओं से कहा उन्हें इस बात की जानकारी नहीं है कि अब आगे कब उसे फिर से खत्म करने का प्रयास किया जाएगा। 

स्थानीय मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि क्रीच को जब इंजेक्शन लगाया जा रहा था तो उसे किसी भी समय गंभीर दर्द नहीं हुआ, हालांकि उसने केवल एक बार मेडिकल स्टाफ को बताया कि उसके "पैरों में थोड़ा दर्द है।" चार मीडिया गवाहों में से एक रोड्रिग्ज ने कहा, "अंत में, जब उसकी मौत की सजा टाल दी गई, तो वह बस ऊपर की ओर देख रहा था।" उन्होंने कहा, "वह कुछ शब्द बुदबुदाता रहा जिन्हें मैं समझ नहीं पाई। ऐसा लग रहा था जैसे कि वह अब राहत महसूस कर रहा हो।"

क्रीच को 40 साल पहले मौत की सजा सुनाई गई थी। उसको 1981 में अपने मोजे में एक बैटरी भरकर अपने ही साथी कैदी की हत्या करने के लिए मौत की सजा सुनाई गई थी। इस दौरान वह पांच अन्य हत्याओं के लिए दोषी ठहराए जाने के बाद जेल की सजा काट रहा था। हालांकि उसने दर्जनों और हत्याएं करने का दावा किया था।

बता दें कि ये पहला मौका नहीं है जब अमेरिका में सजा-ए-मौत देने में बाधा आई है। इससे पहले नवंबर 2022 में अलबामा में दोषी हत्यारे केनेथ स्मिथ को घातक इंजेक्शन द्वारा मारने का असफल प्रयास किया गया था। स्मिथ को अंततः इस वर्ष जनवरी में नाइट्रोजन गैस का इस्तेमाल करके मारा गया था। अमेरिका के इतिहास में पहली बार किसी को नाइट्रोजन गैस से सजा-ए-मौत दी गई थी। डेथ पेनल्टी इंफॉर्मेशन सेंटर के अनुसार, अधिकांश असफल सजा-ए-मौतों में घातक दवाएं देने वाली IV सुइयों को डालने में कठिनाइयां शामिल होती हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें