DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अफगानिस्तान से अमेरिका ना तो सेना कम कर रहा है और ना ही भाग रहा है

US army confirms to kill IS afghanistan

अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना की वापसी की खबरों के बीच तालिबान से बातचीत के लिए अमेरिकी दूत ने बृहस्पतिवार को कहा कि अमेरिका दुनिया के सबसे लंबे युद्ध से ना अपनी सेना ''कम कर रहा है और ना ही वहां से भाग रहा है" और करीब 18 साल से चल रहे युद्ध को खत्म करने के लिए शांति वार्ता में महिलाओं के अधिकारों को भी तवज्जो दी जाएगी।

जलमय खलीलजाद ने कतर से एक वीडियो लिंक के जरिए वाशिंगटन में दर्शकों को संबोधित किया। वॉशिंगटन में हुआ यह कार्यक्रम उन महिलाओं की आवाज उठाने पर केंद्रित रहा जिन्होंने आशंका जताई कि तालिबान के साथ किसी तरह के शांति समझौते से आजादी हासिल करने के लिए किए गए उनके प्रयासों पर पानी फिर जाएगा और यह उन्हें तालिबान के दमनकारी शासन के दौर में वापस ले जाएगा।

अमेरिका को पाकिस्तान के साथ मजबूत सैन्य संबंध बनाए रखने की जरूरत

अफगानिस्तान में जन्मे अमेरिकी दूत ने कहा, ''हम यहां बहुत ही सकारात्मक विरासत छोड़ना चाहेंगे।" उन्होंने कहा, ''हम ना तो सेना कम कर रहे हैं और ना ही मैदान छोड़कर भाग रहे हैं। हम सेना हटाने का समझौता नहीं कर रहे हैं। हम शांति समझौता कर रहे हैं। हम अफगानिस्तान के साथ दीर्घकालिक रिश्ते और साझेदारी की उम्मीद कर हैं।" तालिबान ने मौजूदा अफगान सरकार से मुलाकात करने से इनकार कर दिया है, लेकिन शांति को लेकर चर्चा चल रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Envoy to Afghan says US not cutting and running Military From Afghanistan