DA Image
10 मई, 2021|11:37|IST

अगली स्टोरी

डोनाल्ड ट्रंप जाएंगे अमेरिका के केनोशा, तनाव बढ़ने की आशंका, जैकब ब्लेक को मारी गई थी गोली

a truck on fire outside the kenosha county courthouse   reuters

अश्वेत जैकब ब्लेक के पुलिस गोलीबारी में जख्मी होने के बाद उपजे जनाक्रोश के बीच अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप मंगलवार को विस्कॉन्सिन के केनोशा जाएंगे। व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जुड डीरी ने शनिवार को एयरफोर्स वन में संवाददाताओं को बताया कि ट्रंप कानून प्रवर्तन अधिकारियों से मिलेंगे और हाल के हिंसक प्रदर्शन से हुए नुकसान का 'सर्वेक्षण' करेंगे।

टेक्सास में शनिवार को एक कार्यक्रम के दौरान ट्रंप से केनोशा की यात्रा के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा इसके जल्द होने के आसार हैं। उन्होंने टेक्सास में एक सम्मेलन में कहा, “हो सकता है। हमने स्थिति काबू पाने करने में सफलता पाई। हम स्थानीय अधिकारियों से बातचीत करके नेशनल गार्ड को भेजने में सक्षम रहे। गार्ड के वहां पहुंचने के कुछ ही मिनटों के भीतर हर चीज सामान्य और सुरक्षित हो गई।”

इस यात्रा से शहर में निश्चित ही तनाव बढ़ने की आशंका है जहां शनिवार को राजनीतिक हिंसा की आलोचना के लिए एक अदालत परिसर के बाहर 1000 प्रदर्शनकारियों की भीड़ जुटी थी। पुनर्निर्वाचन के प्रयास में जुटे ट्रंप कानून व्यव्यस्था को लेकर अपना अभियान चला रहे हैं और पुलिस के प्रति समर्थन व्यक्त करते हुए प्रदर्शनकारियों को 'ठग बता रहे हैं।

गौरतलब है कि अमेरिका के विस्कॉन्सिन में 23 अगस्त को दो पुलिसकर्मियों ने 29 वर्षीय अश्वेत व्यक्ति जैकब ब्लेक को गोली मार दी थी। इस घटना के विरोध में जगह-जगह विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। जहां केनोशा में उन प्रदर्शनों में दो लोगों की मौत हो गई वहीं 17 वर्षीय केली रिट्टेनहाउस को गिरफ्तार कर लिया गया। स्थिति पर नियंत्रण पाने के लिए लगभग 1000 से अधिक राष्ट्रीय सुरक्षा गार्डों को तैनात किया गया है।

अमेरिका के केनोशा में अश्वेत जैकब ब्लेक के लिए प्रदर्शन
अमेरिका के विस्कॉन्सिन में एक अदालत के बाहर शनिवार को लगभग एक हजार प्रदर्शनकारियों की भीड़ एकत्र हो गई और उन्होंने ''एक व्यक्ति एक मत" तथा ''न्याय बिना शांति नहीं" के नारे लगाए। पुलिस के एक अधिकारी ने एक सप्ताह पहले जैकब ब्लेक नामक अश्वेत व्यक्ति को पीठ में गोली मार दी थी जिससे वह अपंग हो गया था।

प्रदर्शनकारी केनोशा स्थित अदालत परिसर की ओर बढ़ते हुए ''सात गोली, सात दिन" का नारा भी लगा रहे थे। गौरतलब है कि ब्लेक को सात दिन पहले सात गोलियां मारी गई थीं। प्रदर्शनकारियों में शामिल ब्लेक के पिता ब्लेक सीनियर ने व्यवस्था को पुलिस की बर्बरता और नस्लीय भेदभाव को बढ़ावा देने वाला बताया तथा बदलाव का आह्वान किया। उन्होंने शनिवार को संवाददाताओं से कहा कि उनके पुत्र को दर्द निवारक दवाइयां दी गई हैं, लेकिन अब वह होश में है। उन्होंने कहा, ''वह बहुत दर्द में है।"

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Donald Trump to visit Kenosha Tuesday potentially stoking tensions