ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेशजो बाइडन के शपथ ग्रहण में जाने को लेकर डोनाल्ड ट्रंप ने कही ये बात

जो बाइडन के शपथ ग्रहण में जाने को लेकर डोनाल्ड ट्रंप ने कही ये बात

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शुक्रवार को कहा कि वे आगामी 20 जनवरी को होने वाले नव-निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन के शपथ ग्रहण में नहीं जाएंगे। ट्रंप ने ट्वीट किया, "उन सभी के लिए जो पूछ रहे...

जो बाइडन के शपथ ग्रहण में जाने को लेकर डोनाल्ड ट्रंप ने कही ये बात
एपी,वॉशिंगटनSat, 09 Jan 2021 12:53 AM
ऐप पर पढ़ें

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शुक्रवार को कहा कि वे आगामी 20 जनवरी को होने वाले नव-निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन के शपथ ग्रहण में नहीं जाएंगे। ट्रंप ने ट्वीट किया, "उन सभी के लिए जो पूछ रहे हैं। मैं 20 जनवरी को शपथ ग्रहण समारोह में नहीं जाऊंगा।" डेमोक्रेटिक पार्टी के 78 वर्षीय नेता बाइडन और पार्टी की भारतीय मूल की नेता 56 वर्षीय हैरिस दोनों 20 जनवरी को क्रमश: राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति पद की कमान संभालेंगे। हालांकि, इस बार कोविड-19 महामारी की वजह से कार्यक्रम सादा रहेगा।

अमेरिका में राष्ट्रपति पद के लिए तीन नवंबर को हुए चुनाव में बाइडन और हैरिस को 306 'इलेक्टोरल कॉलेज' वोट मिले थे, वहीं ट्रंप और पेंस के खाते में 232 'इलेक्टोरल कॉलेज' वोट आए थे। वर्मोंट के तीन 'इलेक्टोरल कॉलेज' वोटों की गिनती ने इन दोनों को राष्ट्रपति पद के चुनाव में जीत के लिए आवश्यक 270 से अधिक के जादुई आंकड़े के पार पहुंचा दिया था।

इस बीच, अमेरिका के निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कैपिटल बिल्डिंग (अमेरिकी संसद भवन) में अपने समर्थकों की हिंसा की बुधवार को यह कहते हुए अंतत: निंदा की कि वे अमेरिका का प्रतिनिधित्व नहीं करते हैं। सांसत में पड़े ट्रंप ने इसके साथ ही संकल्प लिया कि वह नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन को सत्ता का व्यवस्थित, निर्बाध और सुगम हस्तांतरण सुनिश्चित करेंगे। एक दिन पहले ही ट्रंप ने अपने समर्थकों से कैपिटल का रुख करने का आह्वान किया था, जहां भीड़ जबरन भीतर घुसी।

ट्रंप ने एक नए वीडियो संदेश में कहा कि अमेरिका कानून-व्यवस्था का पालन करने वाला देश है और रहेगा। व्हाइट हाउस ने ट्रंप का यह वीडियो जारी किया। बृहस्पतिवार को इसे यूट्यूब पर पोस्ट किया गया है। इसमें ट्रंप कहते नजर आ रहे हैं, ''सभी अमेरिकी लोगों की तरह, मैं भी हिंसा, अराजकता और उत्पात से हैरान और दुखी हूं। भवन की सुरक्षा तथा घुसपैठियों को बाहर निकालने के लिए मैंने तुरंत ही राष्ट्रीय गार्ड और कानून लागू करने वाली संघीय एजेंसी की तैनाती की।" इसमें उन्होंने कहा कि कैपिटल में घुसने वाले लोगों ने अमेरिका के लोकतंत्र के मंदिर को अपवित्र किया है।