ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News विदेश62 साल बाद डॉक्टर को पता चला नागरिकता है ही नहीं, अब लगा रहे कोर्ट के चक्कर; अमेरिका में हैरान कर देगा मामला

62 साल बाद डॉक्टर को पता चला नागरिकता है ही नहीं, अब लगा रहे कोर्ट के चक्कर; अमेरिका में हैरान कर देगा मामला

अमेरिका के उत्तरी वर्जीनिया में हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां एक डॉक्टर जो जन्म से अमेरिका में रह रहे हैं, अपना पासपोर्ट रिन्यू करने के लिए पहुंचे तो पता लगा कि नागरिकता है ही नहीं।

62 साल बाद डॉक्टर को पता चला नागरिकता है ही नहीं, अब लगा रहे कोर्ट के चक्कर; अमेरिका में हैरान कर देगा मामला
Gaurav Kalaलाइव हिन्दुस्तान,वाशिंगटनThu, 30 Nov 2023 02:21 PM
ऐप पर पढ़ें

अमेरिका के उत्तरी वर्जीनिया में हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां एक डॉक्टर जो जन्म से अमेरिका में रह रहे हैं, हाल ही में 62 साल के हुए तो अपना पासपोर्ट रिन्यू करने के लिए दफ्तर पहुंचे। यहां उन्हें पता लगा कि उनकी नागरिकता तो बचपन में ही चली गई थी। अमेरिकी विदेश विभाग ने मामले में उनसे कहा है कि उनके जन्म पर उन्हें नागरिकता नहीं दी जानी चाहिए थी, वह गलती से मिल गई। डॉक्टर के पिता तब अमेरिका में ईरानी दूतावास में राजनयिक थे।

इन डॉक्टर का नाम सियावश सोभानी है। उन्होंने वाशिंगटन पोस्ट को बताया कि जब वे नया पासपोर्ट लेने के लिए पहुंचे तो हैरान रह गए। अमेरिकी विदेश विभाग द्वारा उन्हें मिले पत्र के अनुसार, अमेरिका में जिन माता-पिता के पास राजनयिक छूट है, उनके घर जन्म लेने वालों को जन्म के समय अमेरिकी नागरिकता नहीं मिलती है। इसमें कहा गया है कि सोभानी को अपने जन्म के समय गलती से अमेरिका की नागरिकता मिल गई थी, जो गलती बाद में सही कर दी गई।

30 साल से अमेरिका में डॉक्टर
हालांकि, सोभानी पिछले 30 से अधिक वर्षों तक अमेरिका में डॉक्टर हैं। यह पहली बार है जब उन्हें इस समस्या का सामना करना पड़ा है। वो कहते हैं कि पूरे जीवनकाल में, अमेरिकी विदेश विभाग ने हर बार उनके पासपोर्ट के नवीनीकरण के बाद बार-बार पुष्टि की है कि वह एक अमेरिकी नागरिक हैं, लेकिन अब विभाग का यह कहना समझ से परे है।

सियावश सोभानी हाल ही में 62 वर्ष के हो गए हैं और उन्होंने सेवानिवृत्ति के बारे में सोचना शुरू कर दिया है। उन्होंने द वाशिंगटन पोस्ट को बताया कि वह पहले ही कानूनी फीस के तौर पर 40,000 अमेरिकी डॉलर से अधिक खर्च कर चुके हैं और उन्हें कोई अंदाजा नहीं है कि उनका मामला कब तक सुलझेगा।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें