ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News विदेशलड़कियों की पढ़ाई बैन करने से लोग हमसे दूर हो रहे, तालिबान ने भी मान ली अपनी गलती

लड़कियों की पढ़ाई बैन करने से लोग हमसे दूर हो रहे, तालिबान ने भी मान ली अपनी गलती

तालिबान द्वारा नियुक्त सीमा और जनजातीय मामलों के कार्यकारी मंत्री नूरुल्ला नूरी ने कहा कि दूर-दराज के इलाकों में रहने वाले युवाओं को स्कूलों में दाखिला दिलाया गया है, जहां शिक्षा तक पहुंच नहीं है।

लड़कियों की पढ़ाई बैन करने से लोग हमसे दूर हो रहे, तालिबान ने भी मान ली अपनी गलती
Himanshu Jhaएजेंसी,काबुल।Fri, 08 Dec 2023 11:00 AM
ऐप पर पढ़ें

अफगानिस्तान में तालिबान के शासन के बाद वहां लड़कियों की शिक्षा पर पाबंदी लग चुकी है। इस मामले पर जब टोलो न्यूज ने उप विदेश मंत्री शेर मोहम्मद अब्बास स्टानिकजई से पूछा तो उन्होंने कहा है लोगों के तालिबान से दूर होने का मुख्य कारण महिलाओं की शिक्षा पर लगातार प्रतिबंध है। एक समारोह को संबोधित करते उन्होंने कक्षा 6 से आगे की छात्राओं के लिए स्कूलों को फिर से खोलने के महत्व पर जोर दिया और कहा कि ज्ञान के बिना समाज अंधकार है।

यह समारोह तालिबान के सीमा और जनजातीय मामलों के मंत्रालय द्वारा शैक्षिक संस्थाओं में अध्ययन करने वाले छात्रों के स्नातक होने के अवसर पर आयोजित किया गया था। 

स्टैनिकजई ने कहा, "यह हर किसी का अधिकार है। यह प्राकृतिक अधिकार है जो भगवान और पैगंबर ने उन्हें दिया है, कोई उनसे यह अधिकार कैसे छीन सकता है? यदि कोई इस अधिकार का उल्लंघन करता है तो यह अफगानों और यहां के लोगों के खिलाफ अत्याचार है।" उन्होंने आगे कहा, ''सभी के लिए शैक्षणिक संस्थानों के दरवाजे फिर से खोलने का प्रयास करें। आज पड़ोसियों और दुनिया के साथ हमारी एकमात्र समस्या शिक्षा के मुद्दे के कारण है। अगर कोई देश हमसे दूर हो रहा है और हमसे परेशान हो रहा है, तो इसका सबसे बड़ा कारण शिक्षा है।"

तालिबान द्वारा नियुक्त सीमा और जनजातीय मामलों के कार्यकारी मंत्री नूरुल्ला नूरी ने कहा कि दूर-दराज के इलाकों में रहने वाले युवाओं को स्कूलों में दाखिला दिलाया गया है, जहां शिक्षा तक पहुंच नहीं है। उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि धार्मिक और आधुनिक शिक्षा के बीच कोई दूरी नहीं है।

टोलो न्यूज के मुताबिक, नूरी ने कहा, "दूरी की बात सच नहीं है। कोई दूरी नहीं है। इस्लामिक अमीरात के शासन के तहत जो शिक्षा दी जा रही है, मैं आपको बता सकता हूं कि पहले ऐसी कोई व्यवस्था नहीं थी।"

तालिबान के सत्ता में आने के बाद से कक्षा छह से ऊपर की छात्राएं अपनी शिक्षा से वंचित हो गई हैं। टोलो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, तालिबान द्वारा नियुक्त कार्यवाहक शिक्षा मंत्री हबीबुल्लाह आगा ने हाल ही में देश के धार्मिक स्कूलों में शिक्षा की खराब गुणवत्ता की आलोचना की थी। हबीबुल्लाह आगा ने तालिबान और धार्मिक विद्वानों से शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने पर गंभीरता से ध्यान देने को कहा था।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें