Tuesday, January 18, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ विदेशवैज्ञानिकों ने ढूंढ़ा 12 हजार साल पुराना मछली पकड़ने वाला कांटा, ऐसे होता था इस्तेमाल

वैज्ञानिकों ने ढूंढ़ा 12 हजार साल पुराना मछली पकड़ने वाला कांटा, ऐसे होता था इस्तेमाल

लाइव हिन्दुस्तान, नई दिल्लीGaurav
Mon, 22 Nov 2021 03:57 PM
वैज्ञानिकों ने ढूंढ़ा 12 हजार साल पुराना मछली पकड़ने वाला कांटा, ऐसे होता था इस्तेमाल

इस खबर को सुनें

इजरायल में इन दिनों पुरानी चीजें खूब मिल रही हैं। पिछले दिनों जहां प्राचीन काल का एक टॉयलेट सीट और पुरानी शराब की फैक्ट्री खोजी गई थी तो अब इजरायल में विशेषज्ञों ने 12 हजार साल पुराना मछली पकड़ने का अद्भुत कांटा खोजा है। यह सब तब हुआ जब जर्मनी के पुरातत्‍व शोध संस्‍थान के शोधकर्ताओं ने इसकी खोज की। इस कांटे की एक तस्वीर भी वायरल हो रही है।

दरअसल, 'एक्सप्रेस डॉट यूके' की एक रिपोर्ट के मुताबिक मछली पकड़ने का यह कांटा आकार में आधुनिक कांटों के बेहद करीब है लेकिन यह हस्‍तकला का बढ़‍िया उदाहरण है। इसको इस तरह से बनाया गया था, ताकि मछली फंसने के बाद फिर भाग न सके। दिलचस्प बात यह है कि यह कांटे हड्डियों से बने हैं। शोधकर्ताओं को हड्डियों से बने कुल 19 कांटे और खांचेदार पत्‍थर मिले हैं।

शोधकर्ताओं को यह कांटा इजरायल के हूला घाटी में जॉर्डन नदी में मिला है। शोधकर्ताओं का मानना है कि इन पत्‍थरों का इस्‍तेमाल मछली पकड़ने के डंडे के वजन के लिए किया जाता था। 12 हजार साल पुराना मछली पकड़ने का कांटा मिलना अपने आप में दुर्लभ घटना माना गया है। जो कांटे मिले हैं, वे एक ही डिजाइन के नहीं हैं। इससे पता चलता है कि शुरुआती दौर के इंसान अलग-अलग तरीके जानवरों के लिए अलग आकार के कांटों का इस्‍तेमाल करते थे।

प्रत्‍येक कांटा आकार, विशेषता और डिजाइन में अलग है। इसका मतलब साफ है कि तब के लोग जानते थे कि किस मछली का शिकार करने के लिए किस तरह के कांटे की जरूरत है। रिपोर्ट में इस बात का भी जिक्र है कि करीब 12 हजार साल पहले इस समय शुरुआती इंसान घुमंतू शिकारी की बजाय धीरे-धीरे समुदायों में रहकर शिकार करने लगा था।

बता दें कि कुछ दिन पहले इजरायल में प्राचीन काल का एक टॉयलेट सीट और पुरानी शराब की फैक्ट्री खोजी गई थी। इसके बाद एक गोताखोर को सदियों पुरानी तलवार मिल गई थी। बताया गया था कि यह तलवार करीब 900 साल पुरानी है।

epaper
सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें