DA Image
22 अक्तूबर, 2020|3:37|IST

अगली स्टोरी

कोविड-19 संक्रमण का पता लगाने के लिए ज्यादा कारगर रैपिड जांच विकसित

lab technician family now attacked with corona infection after superintendent in pilibhit

शोधकर्ताओं ने कोरोना वायरस संक्रमण का पता लगाने के लिए एक नई रैपिड जांच पद्धति विकसित की है। इस तरीके से एक घंटे से भी कम समय में संक्रमण का पता लगाया जा सकता है और इसके लिए बहुत कम उपकरण की जरुरत होगी। 

शोधकर्ताओं ने कहा कि 'स्टॉप कोविड नामक नयी जांच पद्धति काफी सस्ती होगी जिससे कि लोग हर दिन जांच करा सकेंगे। अनुसंधान करने वाली टीम में मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) के वैज्ञानिक भी थे।

'न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसीन में प्रकाशित अध्ययन में अनुसंधानकर्ताओं ने कहा है कि नयी जांच विधि 93 प्रतिशत संक्रमित मामलों का पता लगा सकती है। पारंपरिक जांच पद्धति में भी यही दर है। अध्ययन के सह लेखक और एमआईटी के वैज्ञानिक उमर अबुदैया ने बताया, हमें रैपिड जांच को मौजूदा स्थिति का महत्वपूर्ण हिस्सा बनाना होगा ताकि लोग हर दिन खुद ही जांच करा लें। इससे महामारी की रफ्तार को घटाने में मदद मिलेगी।

अनुसंधानकर्ताओं ने उम्मीद जताई कि जांच किट को आगे इस तरह तैयार कर लिया जाएगा कि इसका कार्यालय, अस्पताल, स्कूल, घर कहीं पर भी इस्तेमाल हो सकेगा। अनुसंधानकर्ताओं के मुताबिक 'स्टॉप कोविड जांच के नए संस्करण में किसी मरीज के नमूने में वायरस की आनुवंशिक सामग्री के साथ मैग्नेटिक बीड्स के जरिए संक्रमण का पता लगाया जाएगा।

अनुसंधानकर्ताओं के मुताबिक इस तरीके से जांच की संवेदनशीलता बढ़ जाती है। मानक जांच पीसीआर पद्धति में भी यही तरीका अपनाया जाता है। अध्ययन के एक और सह लेखक जोनाथन गुटेनबर्ग ने कहा, ''बीड्स पर वायरल जीनोम लेने के बाद हमने पाया कि जांच की संवेदनशीलता काफी बढ़ जाती है। अनुसंधानकर्ताओं ने स्टॉप कोविड पद्धति से मरीजों के 402 नमूने की जांच की। जांच में इसने 93 प्रतिशत संक्रमित मरीजों का पता लगाया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Developed more efficient rapid tests to detect Covid-19 infection