ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News विदेशगाजा में तबाही देख पश्चिम से भी उठी युद्धविराम की मांग, फ्रांस ने किया इजरायली बमबारी का विरोध

गाजा में तबाही देख पश्चिम से भी उठी युद्धविराम की मांग, फ्रांस ने किया इजरायली बमबारी का विरोध

गाजा में तबाही देखकर फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने कहा है कि इजरायल को अब बमबारी रोक देनी चाहिए क्योंकि इसका कोई औचित्य नहीं है। इससे केवल मासूमों की जान जा रही है।

गाजा में तबाही देख पश्चिम से भी उठी युद्धविराम की मांग, फ्रांस ने किया इजरायली बमबारी का विरोध
Ankit Ojhaलाइव हिंदुस्तान,पैरिसSat, 11 Nov 2023 10:11 AM
ऐप पर पढ़ें

हमास के खिलाफ युद्ध में इजरायल के साथ दिखाई देना वाले फ्रांस ने अपने रुख में परिवर्तन करते हुए कहा कि जिस तरह से गाजा में मासूम बच्चे और नागरिक मारे जा रहे हैं, इजरायल को युद्धविराम कर देना चाहिए। वहीं इजरायल अपनी बात पर अड़ा हुआ है। इजरायली पीएम नेतन्याहू का कहना है कि अगर वह युद्धविराम करते हैं तो यह सरेंडर की तरह होगा। जब तक हमास का पूरी तरह खात्मा नहीं हो जाता है, वह युद्धविराम का ऐलान नहीं करेंगे। 

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने कहा इजरायल को गाजा के नगारिकों को मारना बंद कर देना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस बमबारी से कोई फायदा नहीं होने वाला है और युद्धविराम से इजरायल को ही फायदा होने वाला है। उन्होंने कहा कि फ्रांस किसी भी तरह की आतंकवादी गतिविधि के खिलाफ है और निंदा करता है लेकिन इजरायल को गाजा में बमबारी रोक देनी चाहिए। इमैनुएल मैक्रों ने ये बातें बीबीसी को दिए इंटरव्यू में कहीं। 

बता दें कि इजरायल पर हमास के हमले के खिलाफ जब पश्चिमी देशों ने संयुक्त निंदा का बयान जारी किया था तो उसमें फ्रांस भी शामिल था। इमैनुएल मैक्रों से जब पूछा गया कि क्या ब्रिटेन और अमेरिका भी युद्धविराम की वकालत करेंगे। इसपर मैक्रों ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि बाकी देश भी युद्धविराम का पक्ष लेंगे और इजरायल से इसके लिए आग्रह करेंगे। बता दें कि 7 अक्टूबर को हमास ने इजरायल पर हमला कर दिया था और करीब 1200 लोगों को मार डाला था। इसके बाद इजरायल गाजा पर बमबारी कर रहा है। इजरायल की सेनाएं जमीनी हमला भी कर रही हैं। 

शनिवार को दूसरी बार गाजा सिटी के अल शिफा अस्पताल पर इजरायल ने बमबारी की। इजरायल का कहना था कि इस अस्पातल में आतंकियों का कमांड सेंटर है। अस्पताल में 22 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हुई है। इजरायल इस बात पर जरूर सहमत हुआ है कि गाजा के लोगों को जरूरी सामान पहुंचाने के लिए हर रोज कुछ घंटे का युद्धविराम किया जाए। मैक्रों ने कहा कि मानवीय सहायता के लिए युद्धविराम जरूरी है। युद्धविराम के आलावा मासूमों को बचाने का कोई और रास्ता नहीं है। 

गाजा के स्वास्थ्य मंत्रालय का दावा है कि इजरायल की बमबारी में 10 हजार से ज्यादा लोग मारे गए हैं। इजरायल ने गाजा के लिए फ्यूल और अन्य जरूरी सामग्री की सप्लाई पर भी रोक लगा दी थी। वहीं उत्तरी गाजा के लोगों को दक्षिण गाजा जाने की चेतावनी दी गई है। बड़ी संख्या में लोगों ने पलायन भी किया है। हमास का कहना है कि वह इजरायल से लंबा युद्ध लड़ने वाला है। उसके पास सुरंगों में महीनों का राशन और गोला बारूद इकट्ठा है। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें