ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेशसीमा हैदर के 4 बच्चों को वापस लाएं; पाकिस्तान में उठने लगी मांग, विदेश मंत्रालय को लिखा पत्र

सीमा हैदर के 4 बच्चों को वापस लाएं; पाकिस्तान में उठने लगी मांग, विदेश मंत्रालय को लिखा पत्र

सीमा हैदर का मसला अब पाकिस्तान में जोर पकड़ रहा है। भारत में पाकिस्तानी भाभी के नाम से मशहूर हो चुकी सीमा हैदर के 4 बच्चों को वापस लाने की मांग पाकिस्तान के राष्ट्रीय बाल कल्याण आयोग ने उठाई है।

सीमा हैदर के 4 बच्चों को वापस लाएं; पाकिस्तान में उठने लगी मांग, विदेश मंत्रालय को लिखा पत्र
Surya Prakashलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 10 Jun 2024 04:59 PM
ऐप पर पढ़ें

उत्तर प्रदेश के नोएडा के रहने वाले युवक सचिन मीणा के प्यार में नेपाल से होते हुए हिन्दुस्तान आई सीमा हैदर का मसला अब पाकिस्तान में जोर पकड़ रहा है। भारत में पाकिस्तानी भाभी के नाम से मशहूर हो चुकी सीमा हैदर के 4 बच्चों को वापस लाने की मांग पाकिस्तान के राष्ट्रीय बाल कल्याण आयोग ने विदेश मंत्रालय से उठाई है। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय को लिखे पत्र में आयोग ने कहा कि हमें सीमा हैदर के 4 बच्चों को वापस पाकिस्तान लेकर आना चाहिए, जो हिन्दुस्तान में फंसे हुए हैं। बता दें कि सीमा हैदर के पूर्व पति गुलाम हैदर ने भारत और पाकिस्तान दोनों सरकारों से गुहार लगाई थी कि वे उसके बच्चों को दिलाने में मदद करें।

सीमा हैदर का कहना है कि उसने सचिन मीणा से शादी कर ली है और अब कभी भारत छोड़कर नहीं जाएगी। सीमा हैदर और सचिन मीणा की प्रेम कहानी बॉर्डर के दोनों तरफ चर्चा का विषय बनी हुई है। सीमा हैदर और सचिन मीणा की मुलाकात वर्चुअली ही पबजी गेम पर हुई थी। इसके बाद दोनों फोन पर बातें करने लगे और वीडियो कॉल पर भी खूब बातें होती थीं। फिर दोनों में प्यार हुआ तो सीमा हैदर ने अपना घर ही बेच डाला और कराची के एक इलाके से निकलकर नेपाल उससे मिलने पहुंची। अगली बार वह भारत ही चली आई।

सचिन और सीमा को देश से बाहर भेजने की भी मांग होती रही है। वहीं सीमा हैदर का पहला पति गुलाम हैदर भी अपने बच्चों को वापस भेजने की मांग करता रहा है। सीमा हैदर और सचिन का कहना है कि उन दोनों ने हिंदू रीति-रिवाज से शादी भी कर ली है। अब पाकिस्तान के बाल संरक्षण आयोग का कहना है कि सीमा के 4 बच्चों पर हिंदू धर्म अपनाने का दबाव है। उन्हें जबरन वहां रखा गया है। उन बच्चों को वापस पाकिस्तान लाना चाहिए। लेटर में कहा गया है कि पाक विदेश मंत्रालय को यह मामला भारत सरकार के समक्ष उठाना चाहिए।