DA Image
1 जून, 2020|5:53|IST

अगली स्टोरी

कोरोना वायरस: इमरान का पाकिस्तान को पूरी तरह लॉकडाउन करने से इनकार, अब तक 3 की मौत

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा है कि देश में कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण पूर्ण लॉकडाउन नहीं किया जाएगा। पाकिस्तान में कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है। इसके मद्देनजर कुछ विपक्षी दलों समेत समाज के कुछ अन्य हिस्सों की तरफ से पूर्ण लॉकडाउन की मांग उठ रही है। सिंध प्रांत की पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी की सरकार का कहना है कि वह प्रांत में लॉकडॉउन का ऐलान करने वाली है। 

कोरोना वायरस की समस्या पर राष्ट्र के नाम अपने दूसरे संबोधन में इमरान ने कहा, “अगर हमारे (पाकिस्तान के) हालात इटली और चीन जैसे होते तो मैं पूरा पाकिस्तान लॉकडाउन कर देता। बहस चल रही है कि पूरे मुल्क को लॉकडाउन कर देना चाहिए। मैं आपको इसका मतलब बताता हूं। लॉकडाउन-कर्फ्यू का मतलब सभी नागरिकों को उनके घरों में बंद कर देना है। अगर आज पूरा लॉकडाउन मैं कर दूं तो दिहाड़ी कमाने वाले मजदूर घरों में बंद हो जाएंगे। 25 फीसदी गरीब लोगों का क्या होगा। क्या हमारे पास इतने संसाधन हैं कि हम दिहाड़ी वाले सभी लोगों के घरों तक राशन पहुंचा सकें? देश ऐसा कर पाने की स्थिति में नहीं है।”

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने लोगों से सहयोग देने की अपील करते हुए कहा, “हमने स्कूल-कॉलेज, विश्वविद्यालय, शॉपिंग सेंटर, मॉल वगैरह बंद कर दिए हैं। अब यह देश के नागरिकों पर है कि वे खुद अपने आपको लॉकडाउन कर दें, खुद को आइसोलेशन में कर लें।” उन्होंने लोगों से कहा, “अपनी जिम्मेदारी निभाएं। अगर बीमारी के लक्षण दिखें तो खुद को अलग-थलग कर लें। अफरातफरी और घबराहट इस वायरस से अधिक नुकसान पहुंचा सकती है।” पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने अपने देश की जनता से कहा, “मुझमें विश्वास रखें। मैं अपनी टीम के साथ पूरी तरह से हालात पर निगाह रखे हुए हूं।”

पाकिस्तान ने शुक्रवार (20 मार्च) को कराची में इस वायरस से तीसरी मौत होने की जानकारी दी। उससे दो दिन पहले ईरान और सऊदी अरब से लौटे दो तीर्थयात्रियों की खैबर-पख्तूनख्वा में कोरोनो वायरस से मौत हो गई थी। स्वास्थ्य पर प्रधानमंत्री इमरान खान के विशेष सहायक डा जफर मिर्जा ने कहा है कि देश के सभी प्रांतों में अब प्रयोगशालाएं हैं जहां कोरोनो वायरस की जांच की जा सकती है।

दुनिया भर में 13 हजार से ज्यादा मौत, एक अरब की आबादी घर में बंद
भारत सहित दुनिया के कई देशों में कोरोना वायरस को फैलने से रोकने लिए रविवार (22 मार्च) को करीब एक अरब लोग घरों में बंद रहे। वहीं घातक संक्रमण से मरन वालों की तादाद बढ़कर 13, 000 के पार पहुंच गई है। सबसे बुरी तरह से प्रभावित इटली में कारखाने बंद कर दिए गए हैं। इस महामारी के कारण दुनिया के करीब 35 मुल्कों ने बंद (लॉकडाउन) किया है, जिससे जनजीवन, यात्रा और कारोबार प्रभावित हुए है। वहीं सरकारें सीमाएं बंद करने को लेकर जद्दोजहद कर रही हैं और वायरस की वजह से आर्थिक मंदी से बचने के लिए आपातकालीन उपायों में अरब डॉलर लगा रही हैं। दुनिया में तीन लाख से ज्यादा लोगों के संक्रमित में होने की पुष्टि हुई है।

इटली में स्थिति गंभीर, 4800 से ज्यादा मौतें
इटली में स्थिति गंभीर है जहां 4,800 से ज्यादा लोगों की जान गई है, जो दुनिया में भर में इस संक्रमण से मरने वालों का एक तिहाई है। प्रधानमंत्री जिएसेपे कॉन्‍टे ने शनिवार (21 मार्च) देर रात टीवी के जरिए अपने संबोधन में गैर जरूरी कारखानों को बंद करने का ऐलान किया। छह करोड़ की आबादी वाला इटली पिछले साल चीन में सामने आई बीमारी का नया केंद्र बन गया है। इटली में कोरोना वायरस से हुई मौतों का आंकड़ा चीन और ईरान में हुई मौतें को जोड़ने के बाद भी कहीं ज्यादा है। इटली में कोविड-19 के पुष्ट मामलों में मृत्यु दर 8.6 प्रतिशत है जो कई देशों की तुलना में खासी अधिक है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Coronavirus Imran Khan Pakistan Lockdown COVID19 Total Death 3