DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   विदेश  ›  'कोविशील्ड लेने वाले भारतीयों को छूट, कोवैक्सीन वाले होंगे क्वारन्टाइन', साउथ कोरियाई सरकार ने बनाए नियम
विदेश

'कोविशील्ड लेने वाले भारतीयों को छूट, कोवैक्सीन वाले होंगे क्वारन्टाइन', साउथ कोरियाई सरकार ने बनाए नियम

लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीPublished By: Nishant Nandan
Wed, 16 Jun 2021 10:57 PM
'कोविशील्ड लेने वाले भारतीयों को छूट, कोवैक्सीन वाले होंगे क्वारन्टाइन', साउथ कोरियाई सरकार ने बनाए नियम

1 जुलाई से साउथ कोरिया में 2 हफ्ते के लिए जरुरी क्वारन्टाइन नियम खत्म हो जाएंगे। यहां सरकार ने साफ किया है कि कोविशील्ड वैक्सीन की दोनों डोज लेने वाले लोग साउथ कोरिया में बेहिचक कही भी जा सकते हैं। हालांकि जिन्होंने कोवैक्सीन की डोज ली है उन्हें यहां 2 हफ्ते के क्वारन्टाइन से गुजरना पड़ेगा। न्यूज एजेंसी 'ANI' से बातचीत में बुधवार को भारत में साउथ कोरिया के राजदूत शिन बोंग-किल ने कहा कि ' साउथ कोरिया की सरकार ने फैसला किया है कि जिन लोगों ने कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज ले ली है उनके लिए 2 हफ्ते क्वारन्टाइन का नियम अनिवार्य नहीं है। लेकिन जिन्होंने कोवैक्सीन ली है उन्हें 2 हफ्ते क्वारन्टाइन में रहना होगा। 

साउथ कोरिया के राजदूत ने आम नागरिकों के लिए ही कुछ प्रतिबंधों का जिक्र किया है लेकिन उन्होंने वीवीआईपी के लिए किसी तरह की प्रतिबंधों का उल्लेख नहीं किया है। राजदूत ने कहा कि 'हमने देखा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोवैक्सीन लिया था अगर वो किसी भी समय कोरिया आना चाहते हैं तो उनपर क्वारन्टाइन के नियम लागू नहीं होंगे।' साउथ कोरियाई राजदूत ने भारत द्वारा पड़ोसी मुल्कों को मुफ्त में दिये जा रहे वैक्सीन को लेकर भारत की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि एक डिप्लोमेट होने के नाते 'मैं सोचता हूं कि अपने आसपास रहने वाले पड़ोसियों को वैक्सीन देना यह अच्छी बात है। अगर भारत उनकी मदद नहीं करेगा तब भूटान, नेपाल, श्रीलंका जैसे देशों की मदद कौन करेगा।' 

साउथ कोरियाई राजदूत ने आगे कहा कि मेरे लिए एक महान देश के साथ काम करना बड़ी बात है। कोरोना महामारी से मुश्किलें झेलने के बाद भारत एक बार फिर विश्व पटल पर वापसी करेगा। भारत अभी विश्व में सुपर पावर के तौर पर उभर रहा है। इसलिए कोविड-19 के दूसरे लहर में भारत ने कई मुश्किलें झेली लेकिन मुझे विश्वास है कि यह मुश्किलें भारत के विकास में कभी रोड़ा नहीं बनेंगी।'

उन्होंने आगे यह भी कहा कि कोरिया और भारत के रिश्ते कभी इतने अच्छे नहीं हुए। पूरी दुनिया इस वक्त कोरोना से लड़ रही है। इसी दरम्यान मेरे देश के राष्ट्रपति और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच बेहतरीन रिश्ते विकसित हुए हैं। यह कोरिया के इतिहास में दोनों देशों के बीच बेहतरीन रिश्ते का समय अच्छा समय है। यह सबसे बेहतरीन समय है। 
 

संबंधित खबरें