ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ विदेशकोरोना से फूल रहा दम, जिनपिंग की अकड़ वही; बेहतर वैक्सीन पर अभी भी ना

कोरोना से फूल रहा दम, जिनपिंग की अकड़ वही; बेहतर वैक्सीन पर अभी भी ना

चीन में कोरोना के बढ़ते मामलों के बाद शून्य कोविड पॉलिसी के विरोध जनता के कदमों से भले ही शी जिनपिंग सरकार बैकफुट में हो लेकिन, चीन के इस सर्वोच्च नेता की अकड़ कम होने का नाम नहीं ले रही है।

कोरोना से फूल रहा दम, जिनपिंग की अकड़ वही; बेहतर वैक्सीन पर अभी भी ना
Gaurav Kalaरॉयटर्स,बीजिंगSun, 04 Dec 2022 11:30 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

चीन में कोरोना के बढ़ते मामलों के बाद शून्य कोविड पॉलिसी के विरोध जनता के कदमों से भले ही शी जिनपिंग सरकार बैकफुट में हो लेकिन, चीन के इस सर्वोच्च नेता की अकड़ कम होने का नाम नहीं ले रही है। चीन में कोरोना की तमाम चुनौतियों का सामना करने के बावजूद शी जिनपिंग पश्चिमी टीकों को लेने के लिए तैयार नहीं हैं। अमेरिका के राष्ट्रीय खुफिया निदेशक एवरिल हैन्स का कहना है कि इसके पीछे की सबसे बड़ी वजह है कि अपने विरोधियों के सफाये के बाद शी को अपनी कुर्सी जाने की कोई टेंशन नहीं है।

चीन में दैनिक कोविड मामले अब तक के उच्च स्तर के करीब हैं। लेकिन शी की शून्य-कोविड नीति के बाद जब जनता का आक्रोश सड़क पर शुरू हुआ तो कुछ ही दिनों में सरकार ने कुछ शहरों में छूट देने का ऐलान किया। दो साल से कोरोना पाबंदियों को लेकर जहां दुनियाभर के देश लॉकडाउन से बाहर निकल रहे हैं, दूसरी ओर चीनी सरकार अपनी जनता को लॉकडाउन में धकेल रही है। इससे न सिर्फ चीन की जनता महंगाई का सामना कर रही है। कई छोटे-मोटे व्यवसाय बंद हो चुके हैं और कुछ कगार पर हैं। 

शनिवार को अमेरिका के राष्ट्रीय खुफिया निदेशक एवरिल हैन्स ने कैलिफोर्निया में वार्षिक रीगन नेशनल डिफेंस फोरम में कहा कि वायरस के सामाजिक और आर्थिक प्रभाव के बावजूद, शी जिनपिंग "पश्चिम से बेहतर टीका लेने के इच्छुक नहीं हैं और इसके बजाय चीन एक ही वैक्सीन पर भरोसा कर रहा है। चीन की मौजूदा वैक्सीन ओमिक्रॉन के नये  खिलाफ वैरिएंट के खिलाफ उतना कारगर नहीं है।"

चीन ने किसी भी विदेशी कोविड टीकों को मंज़ूरी नहीं दी है, घरेलू स्तर पर उत्पादित टीकों को चुना है, जो कुछ अध्ययनों ने सुझाव दिया है कि कुछ विदेशी टीकों की तरह प्रभावी नहीं हैं। विशेषज्ञों के अनुसार, इसका मतलब है कि वायरस की रोकथाम के उपायों में ढील देना बड़े जोखिमों के साथ आ सकता है।

व्हाइट हाउस ने इस सप्ताह की शुरुआत में कहा था कि चीन ने अमेरिका से टीके के लिए नहीं कहा था। एक अमेरिकी अधिकारी ने रॉयटर को बताया कि "वर्तमान में कोई उम्मीद नहीं है" कि चीन पश्चिमी टीकों को मंजूरी देगा।