ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेश चार अमेरिकी प्रशिक्षकों पर चाकू से हमले के मामले में संदिग्ध को हिरासत में लिया: चीन की पुलिस

चार अमेरिकी प्रशिक्षकों पर चाकू से हमले के मामले में संदिग्ध को हिरासत में लिया: चीन की पुलिस

चीन के जिलिन शहर में चार अमेरिकी प्रशिक्षकों को चाकू मार कर घायल कर दिया है, जिलिन पुलिस ने एक संदिग्ध को हिरासत में ले लिया है। पुलिस के अनुसार यह चाकूबाजी सोमवार को पार्क में टहलते समय हुई।

 चार अमेरिकी प्रशिक्षकों पर चाकू से हमले के मामले में संदिग्ध को हिरासत में लिया: चीन की पुलिस
Upendraभाषा,बीजिंगTue, 11 Jun 2024 09:42 PM
ऐप पर पढ़ें

चीन के जिलिन शहर में चार अमेरिकी नागरिकों को चाकू मार कर घायल कर दिया हैं, जिलिन पुलिस ने एक संदिग्ध को हिरासत में ले लिया है। पुलिस अधिकारियों ने मंगलवार को बताया की पार्क में टहलते समय यह विवाद हुआ जिसके बाद 55 बर्षीय कुई नाम के व्यक्ति ने 4 अमेरिकी नागरिकों पर चाकू से हमला कर दिया, बीच-बचाव करने आए एक चीनी नागरिक को भी चाकू लगा है। 
अमेरिकी स्कूल के अधिकारियों ने बताया कि कॉर्नेल कॉलेज के प्रशिक्षक चीन के बीहुआ विश्वविद्यालय में पढ़ा रहे थे। दरअसल कार्नेल और बीहुआ विश्वविद्यालयों में आपसी संबंध के तहत यह वहां पढ़ाने के लिए गए हुए थे। जहां पर इनके साथ यह घटना हुई।

 वहीं इंस्टाग्राम पर एक पीड़ित के भाई ने लिखा," मैंने कुछ देर पहले ही डेविड से बात की थी, वह अपनी चोटों से उभर रहा है और अच्छा महसूस कर रहा है।" 
चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लिन जियान ने मंगलवार को दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि घायलों को उपचार के लिए अस्पताल ले जाया गया है और किसी की हालत गंभीर नहीं है। उन्होंने कहा कि पुलिस का मानना है कि जिलिन शहर के बेइशान पार्क में हुआ हमला एक अलग घटना थी। 

वहीं चीनी गृह विभाग ने एक बयान में बताया कि वह चाकू मारने की खबरों से अवगत है और स्थिति पर नजर रख रहा है। यह हमला ऐसे समय पर हुआ जब बीजिंग और वाशिंगटन दोनों ही व्यापार और ताइवान, दक्षिण चीन सागर और यूक्रेन युद्ध जैसे अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर तनाव के बीच संबंधों को मजबूत करने के लिए जनसंपर्क को बनाए रखने की कोशिश कर रहे हैं।

इस घटना की खबर को चीनी मीडिया ने तवज्जो नहीं दी जहां सरकार ऐसी किसी भी सामग्री पर नियंत्रण रखती है जिसे वह संवेदनशील मानती है। समाचार मीडिया प्रतिष्ठानों ने घटना की खबर नहीं दी। कुछ सोशल मीडिया खातों ने हमले के बारे में विदेशी मीडिया की खबर पोस्ट की, लेकिन एक लोकप्रिय पोर्टल पर इसके बारे में हैशटैग ब्लॉक कर दिया गया।