DA Image
11 अप्रैल, 2021|9:40|IST

अगली स्टोरी

अमेरिका ने खींचा हाथ, तो WHO की मदद के लिए आगे आया चीन; अब तक दे चुका है 3 अरब 80 करोड़ का दान

corona virus

वैश्विक महामारी कोराना वायरस (कोविड-19) को लेकर चीन का साथ देने पर अमेरिका ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) को दी जाने वाली आर्थिक मदद पर रोक लगा दी है। ऐसे में डब्ल्यूएचओ की मदद के चीन आगे आया है। चीन ने कहा कि उसने कोरोना महामारी के इस दौर में डब्ल्यूएचओ की कई स्तर पर मदद की है।

चीन की विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुया चुनईंग ने बताया कि उनके देश ने डब्ल्यूएचओ को 3 करोड़ डॉलर (भारतीय रुपए में करीब 2 अरब 28 करोड़) का दान दिया है। उन्होंने कहा कि इसका मकसद महामारी से जूझ रही दुनिया में स्वास्थ्य व्यवस्था को और बेहतर करना है।

चीन ने कोविड-19 के खिलाफ अपनी वैश्विक लड़ाई में डब्ल्यूएचओ को अतिरिक्त 3 करोड़ डॉलर नकद दान करने का फैसला किया है, खासतौर पर विकासशील देशों में स्वास्थ्य व्यवस्था को मजबूती देने के लिए। चीन पिछले महीने (11 मार्च) ही डब्ल्यूएचओ को 2 करोड़ डॉलर (करीब 1 अरब 52 करोड़ भारतीय रुपया) का दान कर चुका है।

चीन में बिना किसी लक्षण के कोरोना संक्रमित होने के 27 नए मामले, ऐसे मरीजों की संख्या 980 के पार

उल्लेखनीय है कि चीन ने कुछ ही रोज पहले अमेरिका द्वारा डब्ल्यूएचओ का वित्त पोषण रोकने पर पर गंभीर चिंता व्यक्त की थी। अमेरिका ने कोरोना वायरस महामारी से निपटने में डब्ल्यूएचओ की भूमिका पर सवाल उठाते हुए वित्तपोषण रोका है। अमेरिका हर साल डब्ल्यूएचओ को लाखों डॉलर की धनराशि देता है। ट्रंप ने डब्ल्यूएचओ पर कोरोना वायरस वैश्विक महामारी से निपटने के लिए सही से कदम नहीं उठाने और दूसरे देशों की करतूतों पर पर्दा डालने का आरोप लगाया था। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का आरोप है कि डब्ल्यूएचओ का रवैया पक्षपाती है और वह चीन के पक्ष में झुका हुआ है।

डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने अमेरिका से वित्तीय मदद की अपील की
एक दिन पहले ही बुधवार (22 अप्रैल) को विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख ने कुछ अमेरिकी सांसदों की ओर से उनके इस्तीफे की मांग को नजरअंदाज करते हुए कहा कि उन्हें उम्मीद है कि अमेरिका उनकी एजेंसी के वित्त पोषण पर रोक लगाने के फैसले पर पुनर्विचार करेगा तथा उन्होंने ''लोगों की जान बचाने" के लिए काम करते रहने का आह्वान किया। डब्ल्यूएचओ महानिदेशक टेड्रोस अधानोम गेब्रेयेसस ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि अमेरिका यह मानता है कि एजेंसी में निवेश वैश्विक महामारी के बीच ''न केवल दूसरों की मदद के लिए बल्कि अमेरिका को सुरक्षित रखने के लिए महत्वपूर्ण है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:China supports WHO multilateralism during times of Coronavirus crisis With 3 Crore Dollar