DA Image
5 अगस्त, 2020|8:43|IST

अगली स्टोरी

गलवान घाटी में सैनिकों के पीछे हटने पर चीन ने कहा- भारत के साथ सैन्य बातचीत में बनी सहमति पर अमल

china foreign ministry

गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के पीछे हटने की खबरों के बीच चीन ने सोमवार को कहा कि लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल पर तनाव और तनातनी खत्म करने को लेकर दोनों सेनाओं के बीच प्रगति हुई है। पूर्वी लद्दाख में तनाव को कम करने के लिए दोनों देशों में कमांडर स्तर की बातचीत के छह दिन बाद चीन ने यह बयान दिया है। हालांकि, चीनी विदेश मंत्रालय ने यह विस्तार से नहीं बताया कि छह दिनों में क्या-क्या प्रगति हुई है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने कहा, ''चीन और भारत के सैनिकों में 30 जून को कमांडर स्तर की बातचीत हुई। दो दौर की वार्ता में बनी सहमित पर दोनों पक्ष अमल कर रहे हैं।'' उनसे भारतीय मीडिया में आई उन खबरों पर प्रतिक्रिया मांगी गई थी, जिनमें कहा गया है कि चीनी सैनिक पीछे हटे हैं। 

यह भी पढ़ें: चीन ही नहीं लद्दाख में ठंड भी दुश्मन, भारतीय सेना दोनों को यूं देगी मात

झाओ ने कहा, ''अग्रिम पंक्ति की सेनाओं में प्रगति हुई है, तनातनी और तनाव कम करने के लिए प्रभावी कमद उठाए जा रहे हैं। हमें उम्मीद है कि भारतीय पक्ष चीन की ओर बढ़ेगा और ठोस कार्रवाई के माध्यम से आम सहमति को लागू करेगा और सीमा क्षेत्र में तनाव को कम करने के लिए सैन्य और कूटनीतिक स्तर पर संवाद कायम रखेगा।''

चीन की यह प्रतिक्रिया भारतीय मीडिया में आई उन खबरों के कुछ ही घंटों के भीतर आई है, जिनमें कहा गया है कि चीनी सैनिक गलवान घाटी में झड़प वाले स्थान से 1.5 किलोमीटर पीछे चले गए हैं। 15 जून को यहां दोनों पक्षों के बीच हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे। चीन ने भी स्वीकार किया कि उसके सैनिक भी मारे गए हैं, लेकिन उसने हताहतों की संख्या का खुलास नहीं किया है। 

इस मामले की जानकारी रखने वाले लोगों ने सोमवार को नई दिल्ली में हिन्दुस्तान टाइम्स को बताया, ''पीएलए के सैनिक झड़प वाले स्थान से 1-1.5 किलोमीटर पीछे चले गए हैं।'' बताया गया कि पीएलए ने कमांडर स्तर की बातचीत में पीछे हटने पर सहमित दी थी। पीएलए को पेट्रोलिंग पॉइंट 14 से टेंट और ढांचों को हटाते हुए देखा गया है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:China says progress made to disengage in military talks with India