ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेशचांद की अंधेरी दुनिया में चीन के चंद्रयान की सॉफ्ट लैंडिंग, 23 दिन में रचेगा इतिहास; पाकिस्तान भी साथ

चांद की अंधेरी दुनिया में चीन के चंद्रयान की सॉफ्ट लैंडिंग, 23 दिन में रचेगा इतिहास; पाकिस्तान भी साथ

China Chandrayaan soft landing: चीन के चांग-6 लैंडर ने चांद के सबसे अंधेरे हिस्से पर सफलतापूर्वक लैंडिग कर ली है। अब चीन का लक्ष्य 23 दिनों के भीतर चांद के इस हिस्से से मिट्टी धरती पर लाने की है।

चांद की अंधेरी दुनिया में चीन के चंद्रयान की सॉफ्ट लैंडिंग, 23 दिन में रचेगा इतिहास; पाकिस्तान भी साथ
chang-e-6-lander
Gaurav Kalaवार्ता,बीजिंगSun, 02 Jun 2024 10:48 AM
ऐप पर पढ़ें

China Chandrayaan soft landing: भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो ने साल 2023 में चंद्रयान उतारकर इतिहास रचा था। चंद्रयान-3 ने चांद के जिस हिस्से में सॉफ्ट लैंडिंग की, उस कारनामे को आजतक कोई नहीं कर पाया है। चीन के चांग-6 नाम के लैंडर ने चांद के सबसे अंधेरे हिस्से पर सफलतापूर्वक लैंडिग कर ली है। अब चीन का लक्ष्य 23 दिनों के भीतर चांद के इस हिस्से से मिट्टी धरती पर लाने की है। ऐसा करके चीन पूरी दुनिया को पछाड़कर बड़ा कारनामा करने की योजना बना रहा है। चीन के इस मिशन में फ्रांस, पाकिस्तान और इटली भी शामिल है।

चीनी समाचार एजेंसी ‘शिन्हुआ’ ने रविवार को चीन के राष्ट्रीय अंतरिक्ष प्रशासन (सीएनएसए) के हवाले से रविवार को खबर दी कि उनका लैंडर सफलतापूर्वक चांद पर सतह पर उतर गया है। सीएनएसए ने कहा कि 3 मई को चीन के वाहक रॉकेट लॉन्ग मार्च-5 वाई 8 को चांग'ई-6 चंद्र जांच के साथ हैनान द्वीप पर वेनचांग अंतरिक्ष प्रक्षेपण स्थल से लॉन्च किया गया था। उस वक्त चीनी अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा था कि यदि मिशन सफल रहा तो चांग'ई-6 मानव इतिहास में पहली बार चंद्रमा के पिछले हिस्से से मिट्टी पृथ्वी पर लाएगा। सीएनएसए ने कहा कि उनकी योजना लगभग दो किलोग्राम (चार पाउंड) मिट्टी के नमूने पृथ्वी पर लाने की है।

23 दिन का मिशन
चांग'इ-6 में एक कक्षीय मॉड्यूल वाहन और एक लॉन्च मॉड्यूल है। इसमें एक लैंडिंग कैमरा, एक पैनोरमिक कैमरा, एक खनिज वर्णक्रमीय विश्लेषण उपकरण और एक चंद्र मिट्टी संरचना विश्लेषण उपकरण के पेलोड भी हैं। चीन का लक्ष्य 23 दिन के भीतर अपने मिशन को पूरा करना है।

मिशन में पाकिस्तान का भी साथ
चीन के इस चंद्र मिशन में वह अकेला नहीं है, इसमें उसके साथ तीन देश भी शामिल हैं। चीन चंद्र मिशन में अंतरराष्ट्रीय पेलोड लेकर गया है। जिसमें पृथ्वी के प्राकृतिक उपग्रह की सतह पर रेडॉन गैस और उसके क्षय उत्पादों की एकाग्रता को मापने के लिए फ्रांसीसी डिटेक्टर डीओआरएन है। यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी के एनआईएलएस नकारात्मक आयन विश्लेषक, इटली के लेजर कॉर्नर रिफ्लेक्टर और पाकिस्तान के आईसीयूबीई-क्यू उपग्रह भी शामिल हैं।