ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेशचांद पर हो गया चमत्कार, फिर जिंदा हुआ ये Chandrayaan, भेजने लगा तस्वीरें; एक्सपर्ट्स शॉक्ड

चांद पर हो गया चमत्कार, फिर जिंदा हुआ ये Chandrayaan, भेजने लगा तस्वीरें; एक्सपर्ट्स शॉक्ड

जापान एयरोस्पेस एक्सप्लोरेशन एजेंसी के अनुसार, जापान के मून स्नाइपर लैंडर ने तीसरी बार बाधाओं को पार किया है, और वह ऐसी कठोर परिस्थितियों को सहन करने के लिए डिजाइन नहीं किया गया था।

चांद पर हो गया चमत्कार, फिर जिंदा हुआ ये Chandrayaan, भेजने लगा तस्वीरें; एक्सपर्ट्स शॉक्ड
Madan Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,टोक्योMon, 06 May 2024 09:10 AM
ऐप पर पढ़ें

Chandrayaan: पिछले साल अगस्त महीने में भारत के चंद्रयान-3 (Chandrayaan 3) को तब बड़ी सफलता मिली, जब चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर सफल लैंडिंग हुई थी। दुनियाभर से इसरो की प्रशंसा की गई। इसके बाद जापान ने अपना मून मिशन लॉन्च किया। हालांकि, लैंडिंग मन मुताबिक नहीं हुई, जिसकी वजह से माना जाने लगा कि  जापान का चंद्रयान ज्यादा समय तक चांद पर जिंदा नहीं रह सकेगा, लेकिन तीसरी बार उसने चमत्कार कर दिया है। जापान एयरोस्पेस एक्सप्लोरेशन एजेंसी के अनुसार, उसका स्नाइपर लैंडर यानी कि जापान का चंद्रयान तीसरी बार जिंदा हो गया है। उसने तस्वीरें भी भेजी हैं। चंद्रमा पर 14 दिनों तक अंधेरा रहता है और तापमान के काफी नीचे चले जाने की वजह से मून मिशन्स के ज्यादा लंबे समय तक चलने की उम्मीद नहीं रहती। 

कठोर परिस्थिति के लिए नहीं बना था
जापान एयरोस्पेस एक्सप्लोरेशन एजेंसी के अनुसार, जापान के मून स्नाइपर लैंडर ने तीसरी बार बाधाओं को पार किया है, और वह ऐसी कठोर परिस्थितियों को सहन करने के लिए डिजाइन नहीं किया गया था। इसके बाद भी वह चंद्रमा की एक लंबी और ठंडी रात में भी जीवित रह गया। नासा के मुताबिक, चांद पर जब रात होती है, तब वहां का तापमान शून्य से 208 डिग्री फ़ारेनहाइट (शून्य से 133 डिग्री सेल्सियस नीचे) तक गिर जाता है। सीएनएन की रिपेार्ट के अनुसार, जापान के मून स्नाइपर से एक चंद्र रात को भी झेलने की उम्मीद नहीं थी। जापान के चंद्रयान का रोबोटिक वाहन, जिसे एसएलआईएम या चंद्रमा की जांच के लिए स्मार्ट लैंडर के रूप में भी जाना जाता है, यह पहली बार इस साल 19 जनवरी को चंद्रमा की सतह पर उतरा था।

चांद पर उतरने वाला पांचवां देश बना था जापान
जब इस साल की शुरुआत में जापान का चंद्रयान चांद पर उतरा था, तब यह दुनिया की पांचवां देश बन गया था, जिसने चंद्रमा पर लैंडिंग की थी। अंतरिक्ष यान शियोली क्रेटर के पास उतरा था, जो चंद्र भूमध्य रेखा के निकट एक क्षेत्र, ट्रैंक्विलिटी सागर के लगभग 200 मील (322 किलोमीटर) दक्षिण में स्थित है, जहां अपोलो 11 ने पहली बार इंसानों को चंद्रमा पर उतारा था, लेकिन जैसा कि वैज्ञानिक चाहते थे, उस तरह से सबकुछ नहीं हो सका था। लैंडिंग के दौरान, जापान के अंतरिक्ष यान में एक गड़बड़ी हो गई थी और उसके सौर पैनल सीधे होने के बजाय पश्चिम की ओर थे और उन्हें बिजली उत्पन्न करने के लिए आवश्यक सूर्य का प्रकाश नहीं मिल रहा था। लैंडर के पास बंद होने से पहले इमेजेस को भेजने के लिए पर्याप्त ऊर्जा थी। जापान में मिशन की टीम को उम्मीद थी कि एक बार जब सूरज की रोशनी फिर से सौर पैनलों तक पहुंच जाएगी, तो अंतरिक्ष यान फिर से जाग सकता है।