ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेशभारत से लड़ाई नहीं चाहते, ताकतवर देश ऐसा करेंगे तो...; खालिस्तानी निज्जर हत्याकांड पर क्या बोले जस्टिन ट्रूडो

भारत से लड़ाई नहीं चाहते, ताकतवर देश ऐसा करेंगे तो...; खालिस्तानी निज्जर हत्याकांड पर क्या बोले जस्टिन ट्रूडो

जस्टिन ट्रूडो ने रविवार को कहा, 'हमारी स्थिति इस मामले को लेकर एकदम साफ है। हम इस सीरियस मैटर पर भारत के साथ रचनात्मक ढंग से काम करना चाहते हैं। शुरुआत से ही हमने वास्तविक आरोप लगाए हैं।'

भारत से लड़ाई नहीं चाहते, ताकतवर देश ऐसा करेंगे तो...; खालिस्तानी निज्जर हत्याकांड पर क्या बोले जस्टिन ट्रूडो
Niteesh Kumarलाइव हिन्दुस्तान,ओटावाSun, 12 Nov 2023 04:51 PM
ऐप पर पढ़ें

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने एक बार फिर खालिस्तानी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या का मामला उठाया है। उन्होंने रविवार को कहा कि भारत को हमने इस केस की तह तक जाने के लिए हमेशा साथ मिलकर काम करने को कहा है। कनाडा लड़ाई नहीं चाहता, बल्कि कानून के शासन के लिए खड़े होना मकसद है। दरअसल, ट्रूडो अमेरिकी विदेश सचिव एंटनी ब्लिंकन के उस बयान पर प्रतिक्रिया दे रहे थे जिसमें उन्होंने कहा कि अमेरिका कनाडा को निज्जर मामले पर जांच आगे बढ़ाते हुए देखना चाहता है। साथ ही भारत को इसमें मदद करने की जरूरत है। कनाडाई पीएम ने कहा, 'जब से हमें विश्वसनीय आरोपों के बारे में पता चला कि भारत सरकार के एजेंट कनाडा की धरती पर कनाडाई नागरिक की हत्या में शामिल थे, हमने इसे लेकर भारत से संपर्क किया और उनसे साथ मिलकर काम करने को कहा।'

जस्टिन ट्रूडो ने कहा, 'अंतरराष्ट्रीय कानून और लोकतंत्र की संप्रभुता के गंभीर उल्लंघन को लेकर हमने अमेरिका और दूसरे सहयोगियों से संपर्क किया है। इस मामले को हम बहुत गंभीरता से ले रहे हैं। हम अपने पार्टनर्स के साथ काम करना जारी रखेंगे क्योंकि कानून प्रवर्तन और जांच एजेंसियां अपना काम कर रही हैं।' प्रधानमंत्री ने कहा कि कनाडा ऐसा देश है जो हमेशा कानून के शासन के लिए खड़ा रहेगा। उन्होंने कहा, 'अगर बड़े देश नतीजे की परवाह किए बिना अंतरराष्ट्रीय कानून का उल्लंघन करते हैं, तो यह स्थिति पूरी दुनिया के लिए और अधिक खतरनाक हो जाती है।'

हमने वास्तविक आरोप लगाए: जस्टिन ट्रूडो
भारत-कनाडा विवाद को लेकर जस्टिन ट्रूडो ने कहा, 'हमारी स्थिति इस मामले को लेकर एकदम साफ है। हम इस सीरियस मैटर पर भारत के साथ रचनात्मक ढंग से काम करना चाहते हैं। शुरुआत से ही हमने वास्तविक आरोप लगाए हैं और इसे लेकर हम सब बहुत चिंतित हैं। हमने इसकी तह तक जाने और इसे गंभीरता से लेने के लिए भारतीय सरकार व दुनिया भर के साझेदारों से संपर्क किया है।' उन्होंने आगे कहा, 'भारत ने वियना कन्वेंशन का उल्लंघन किया। भारत में 40 से अधिक कनाडाई राजनयिकों की राजनयिक छूट को मनमाने ढंग से रद्द कर दिया गया। इससे हमें बहुत निराशा हुई।'

भारत पर वियना कन्वेंशन के उल्लंघन का आरोप
कनाडाई पीएम ने कहा, 'भारत सरकार के एजेंट कनाडा में कनाडाई नागरिक की हत्या में शामिल हो सकते हैं, ऐसा मानने के लिए हमारे पास गंभीर कारण हैं। भारत ने वियना कन्वेंशन के तहत हमारे अधिकारों का उल्लंघन किया और कनाडाई राजनयिकों के पूरे समूह को बाहर निकाल दिया।' उन्होंने कहा कि यह दुनिया भर के लिए चिंता की बात है। अगर कोई देश यह फैसला लेता है कि उसके दूसरे देश के राजनयिक सुरक्षित नहीं हैं, तो इससे अंतरराष्ट्रीय संबंध बहुत खतरनाक और गंभीर हो जाते हैं। इसके बावजूद हमने भारत के साथ रचनात्मक और सकारात्मक रूप से काम करने की कोशिश की है।