ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News विदेशकनाडाई PM जस्टिन ट्रूडो की फिर फजीहत, सपरिवार छुट्टी मनाने गए थे जमैका; प्लेन ने दे दिया दोबारा गच्चा

कनाडाई PM जस्टिन ट्रूडो की फिर फजीहत, सपरिवार छुट्टी मनाने गए थे जमैका; प्लेन ने दे दिया दोबारा गच्चा

Canada PM Justin Trudeau: इस बार जब वह सपरिवार जमैका छुट्टियां मनाने गए तब वहां भी उनके प्लेन ने धोखा दे दिया। गनीमत ये रही कि एक टेक्निशियन की मदद से किसी तरह विमान को उड़ाया जा सका और वो देश लौट सके

कनाडाई PM जस्टिन ट्रूडो की फिर फजीहत, सपरिवार छुट्टी मनाने गए थे जमैका; प्लेन ने दे दिया दोबारा गच्चा
Pramod Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSat, 06 Jan 2024 01:54 PM
ऐप पर पढ़ें

कनाडाई प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो का साथ बुरी खबरें छोड़ ही नहीं पा रही हैं। एक बार फिर वह पूरी दुनिया के सामने शर्मसार हुए हैं। उनके विमान ने फिर धोखा दे दिया है। इससे पहले जब वह जी-20 शिखर सम्मेलन में भाग लेने नई दिल्ली आए थे, तब उनका प्लेन उड़ान नहीं भर पाया था। इसकी वजह से उन्हें डेढ़ दिन ज्यादा नई दिल्ली में रुकना पड़ा था। उस वक्त भारत ने मदद की पेशकश की थी लेकिन ट्रूडो ने उसे स्वीकार नहीं किया था।

इस बार जब वह सपरिवार जमैका छुट्टियां मनाने गए तब वहां भी उनके प्लेन ने धोखा दे दिया। गनीमत ये रही कि एक टेक्निशियन की मदद से किसी तरह विमान को उड़ाया जा सका और वो देश लौट सके। ट्रूडो 26 दिसंबर को जमैका स्थित रिसॉर्ट के लिए रवाना हुए थे और गुरुवार को वापस स्वदेश लौटे हैं। उनके साथ परिवार के अन्य सदस्यों समेत सोफी ग्रेगोइरे भी थीं, जिनसे वह 2023 में अलग हो गए थे। 

सीबीसी न्यूज के मुताबिक, जब जस्टिन ट्रूडो का विमान जमैका में खराब हो गया तो राष्ट्रीय रक्षा विभाग को आनन-फानन में दूसरा विमान जमैका भेजना पड़ा। सीबीसी की रिपोर्ट में कहा गया है,"प्रधानमंत्री को सपरिवार पार्टी मनाने के लिए ले जाने वाला पहला विमान आगमन के बाद अनुपयोगी हो गया था।"

दोनों विमान रॉयल कैनेडियन वायु सेना द्वारा संचालित CC-144 चैलेंजर्स कैटगरी के विमान हैं। रिपोर्ट में डीएनडी के प्रवक्ता के हवाले से कहा गया है, "दूसरा विमान पहले विमान की मरम्मत के लिए एक रखरखाव टीम लेकर गया था। उसे वहां बैकअप के तौर पर रखा गया था ताकि प्रधान मंत्री को उसकी जरूरत पड़े तो इस्तेमाल किया जा सके।" 

जिस विमान से ट्रूडो सपरिवार जमैका गए थे, उसमें समस्या का पता 2 जनवरी को चला। इसके बाद कनाडा से फिर एक रखरखाव दल जमैका आया। तब इस टीम ने उसकी मरम्मत की और उसे सेवा में दोबारा लाया जा सका। नेशनल पोस्ट की रिपोर्ट में कहा गया है कि इस यात्रा खर्च का भार उठाने के बारे में प्रधानमंत्री ने पहले कहा था कि वह इसका बोझ उठाएंगे लेकिन बाद में पीएमओ ने स्पष्ट किया कि यह यात्रा पारिवारिक मित्रों के सौजन्य से थी।

बता दें कि ट्रूडो फिलहाल जिस विमान का इस्तेमाल कर रहे हैं, वह 36 साल पुराना है और पहले भी समस्या पैदा कर चुका है। अक्टूबर 2016 में उड़ान भरने के आधे घंटे बाद उसे ओटावा लौटना पड़ा था। ट्रूडो तब बेल्जियम की यात्रा पर थे। यह विमान 16 महीने तक सेवा से बाहर रह चुका है। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें