ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News विदेशब्रिटेन में अवैध प्रवासियों को नो एंट्री, प्रधानमंत्री ऋषि सुनक लाए अब तक का सबसे सख्त कानून

ब्रिटेन में अवैध प्रवासियों को नो एंट्री, प्रधानमंत्री ऋषि सुनक लाए अब तक का सबसे सख्त कानून

ब्रिटेन में अप्रवासियों की समस्या काफी ज्यादा बड़ी होती जा रही है। इस पर लगाम लगाने के लिए वहां की सरकार कुछ अहम फैसले ले रही है। इसी कड़ी में एक नया बिल आया है। ऋषि सुनक ने इसको लेकर ट्वीट किया है।

ब्रिटेन में अवैध प्रवासियों को नो एंट्री, प्रधानमंत्री ऋषि सुनक लाए अब तक का सबसे सख्त कानून
Deepakलाइव हिन्दुस्तान,लंदनSat, 09 Dec 2023 08:55 AM
ऐप पर पढ़ें

ब्रिटेन में अप्रवासियों की समस्या काफी ज्यादा बड़ी होती जा रही है। इस पर लगाम लगाने के लिए वहां की सरकार कुछ अहम फैसले ले रही है। इसी कड़ी में एक नया विधेयक भी लाया जा रहा है। इस विधेयक को लेकर ब्रिटिश प्रधानमंत्री ऋषि सुनक ने ट्वीट किया है। इस ट्वीट में उन्होंने विधेयक से जुड़ी अहम बातों की जानकारी दी है। सुनक ने कहा है कि हम अपनी सीमाओं को सुरक्षित करने के लिए कुछ अहम फैसले ले रहे हैं। साथ ही उन्होंने अवैध प्रवास खत्म करने पर भी जोर दिया है।

समझ सकता हूं 
ऋषि सुनक ने आगे लिखा कि इस विधेयक के कारण देश में आने वाले लोगों को संसद नियंत्रित करेगी, न कि आपराधिक गिरोह या कोई विदेशी अदालतें। सुनक के मुताबिक एक प्रवासी का बेटा होने के नाते मैं समझ सकता हूं कि लोग ब्रिटेन क्यों आना चाहते हैं। लेकिन मेरे माता-पिता कानूनी रूप से ब्रिटेन आए थे। हम नहीं चाहते कि यहां आने के लिए लोग क्रिमिनल गैंग के हाथों तरह-तरह की तकलीफें उठाएं। सुनक ने कहाकि इस हफ्ते मैंने अवैध प्रवास के खिलाफ सबसे सख्त कानून का ऐलान किया है। इससे अवैध प्रवास पूरी तरह से खत्म हो जाएगा।

सीमाओं की सुरक्षा के लिए
अपने ट्वीट में सुनक ने लिखा है कि इस हफ्ते अपने देश की सीमाओं को सुरक्षित रखने के लिए कुछ कड़े फैसले लिए हैं। उन्होंने लिखा कि ब्रिटेन में प्रवासियों की संख्या काफी ज्यादा है। अवैध प्रवासियों पर लगाम लगनी ही चाहिए। सुनक ने बताया कि इसलिए हमने अवैध प्रवासन को खत्म करने की दिशा में कदम उठाया है। इसके तहत अवैध प्रवासियों की संख्या में 300,000 तक की कमी लाने की योजना है। ब्रिटिश प्रधानमंत्री ने लिखा कि माइग्रेशन से हमेशा ब्रिटेन को फायदा पहुंचेगा, लेकिन हमें हमारे सिस्टम का दुरुपयोग रोकना होगा।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें