ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेशब्रिटेन में आम चुनाव से पहले 10 लाख ब्रिटिश हिंदुओं ने रख दी ये मांगें, जारी किया मैनिफेस्टो

ब्रिटेन में आम चुनाव से पहले 10 लाख ब्रिटिश हिंदुओं ने रख दी ये मांगें, जारी किया मैनिफेस्टो

ब्रिटेन के हिंदुओं ने 4 जुलाई को होने वाले आम चुनाव से पहले सरकार से अपनी मांगों का मैनफेस्टो जारी किया है। ऐसा पहली बार हुआ है जब हिंदुओं ने इस तरह मैनफेस्टो के जरिए अपनी मांग रखी है।

ब्रिटेन में आम चुनाव से पहले 10 लाख ब्रिटिश हिंदुओं ने रख दी ये मांगें, जारी किया मैनिफेस्टो
Jagritiलाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीWed, 12 Jun 2024 12:28 PM
ऐप पर पढ़ें

ब्रिटेन के हिंदुओं ने सरकार से अपनी मांगों का मैनफेस्टो जारी किया है। ऐसा पहली बार हुआ है जब हिंदुओं ने इस तरह मैनफेस्टो के जरिए अपनी मांग रखी है। 32 पेजों का यह मैनिफेस्टो उन सभी नेताओं के लिए है जो हिंदुओं के समर्थन से चुनाव जीतना चाहते हैं। ब्रिटेन में दस लाख से ज़्यादा हिंदू रहते हैं। ब्रिटेन में  4 जुलाई को आम चुनाव होनो वाले हैं। वे उम्मीदवारों से सोशल मीडिया पर सार्वजनिक रूप से इसका समर्थन करने के लिए कह रहे हैं।

मंगलवार तक चार कंजर्वेटिव उम्मीदवार बॉब ब्लैकमैन, रॉबर्ट बकलैंड, राहेश सिंह और थेरेसा विलियर्स ने इन हिंदुओं का समर्थन किया था। हिंदू काउंसिल यूके, हिंदू फोरम ऑफ ब्रिटेन, हिंदू मंदिर नेटवर्क यूके, नेशनल काउंसिल ऑफ हिंदू टेम्पल्स और इस्कॉन यूके समेत तेरह प्रमुख ब्रिटिश हिंदू संगठनों ने संयुक्त रूप से मैनिफेस्टो का ड्राफ्ट तैयार किया है।

क्या है हिंदुओं की डिमांड?

घोषणापत्र में ब्रिटेन में हिंदुओं की खिलाफ बढ़ती नफरतों को रिलीजियस हेट क्राइम के रूप में मान्यता देने की मांग की गई है। साथ ही हिंदुओं के खिलाफ़ हिंसा में शामिल लोगों और भारत की संप्रभुता पर हमला करने वालों पर नज़र रखने और उन्हें सजा देने की मांग भी की गई है। हिंदू विरोधी हेट क्राइम के उदाहरणों में प्रवासी हिंदू पहचान को भारतीय नागरिकता और देशभक्ति के साथ मिलाना, हिंदुओं के उत्पीड़न को बढ़ा-चढ़ाकर पेश करने का आरोप लगाना या नकारना, हिंदू धर्म मानने वाले लोगों के राजनीतिक एजेंडे के बारे में बेबुनियाद दावे करना; और यह कहना कि भारतीय समाज में असमानता "हिंदू धर्म से अभिन्न रूप से जुड़ी हुई है" शामिल है।

मैनफेस्टो में हिंदू मंदिरों के लिए सुरक्षा योजनाओं और फंड की मांग की गई है। इसमें यह भी कहा गया है कि हिंदू धर्म को हाई लेवल पर पढ़ाना अनिवार्य किया जाना चाहिए, स्कूलों में भारतीय भाषाएं सिखाई जानी चाहिए और हिंदू स्कूल बनाने के लिए ज्यादा फंड मिलने चाहिए। घोषणापत्र में सभी जेलों, अस्पतालों और स्कूलों में हिंदू पुजारियों को नियुक्त करने और इन जगहों पर प्रेयर रूम में हिंदू देवताओं सहित हिंदू धर्म की चीजें उपलब्ध कराने की सिफारिश भी की गई है।

कानून बनाने से पहले हिंदूओं से करे परामर्श

इसमें हिंदू पुजारियों और ब्रिटेन के हिंदुओं के आश्रितों के लिए ब्रिटेन आने के लिए वीज़ा प्रोसेस को आसान बनाने की मांग की गई है। इसमें सांसदों से ब्रिटेन के हिंदुओं से संबंधित मुद्दों पर कानून बनाने से पहले हिंदू संगठनों से परामर्श करने के लिए कहा गया है। घोषणापत्र में ब्रिटेन की सेवा करने वाले हिंदू सैनिकों के लिए एक स्मारक बनाने की बात की गई है और मांग की गई है कि अधिक श्मशान घाट बनाए जाएं। घोषणापत्र में उम्मीदवारों से यह भी कहा गया है कि वे यह पहचानें कि ब्रिटेन के हिंदुओं का भारत से संबंध मुख्य रूप से राजनीतिक नहीं बल्कि आध्यात्मिक है और उम्मीदवारों से धार्मिक जीवन शैली को समझने की अपील भी की है।