DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   विदेश  ›  कोरोना से लड़ रहे भारत को 1 हजार वेंटिलेटर भेजेगा ब्रिटेन, 4 मई को होगी पीएम मोदी और बोरिस जॉनसन की वर्चुअल मीटिंग
विदेश

कोरोना से लड़ रहे भारत को 1 हजार वेंटिलेटर भेजेगा ब्रिटेन, 4 मई को होगी पीएम मोदी और बोरिस जॉनसन की वर्चुअल मीटिंग

लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीPublished By: Nootan Vaindel
Mon, 03 May 2021 11:01 AM
कोरोना से लड़ रहे भारत को 1 हजार वेंटिलेटर भेजेगा ब्रिटेन, 4 मई को होगी पीएम मोदी और बोरिस जॉनसन की वर्चुअल मीटिंग

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 4 मई को यूके के प्रधानमंत्री बोरिस ज़नसन के साथ एक वर्चुअल मीटिंग करने जा रहे हैं। बता दें कि इस मीटिंग से पहले यूके भारत को 1000 वेंटिलेटर भेजने की तैयारी में है। इस मीटिंग के जरिए दोनों देशों के बीच के रिश्तों को मजबूत और द्विपक्षीय सहयोग को गहरा करेंगे। इस समिट में दोनों नेता ‘रोडमैप-2030’ (Roadmap-2030) को लॉन्च करेंगे। 

 ब्रिटेन सरकार ने वार्ता की अनुसूची की पुष्टि की करते हुए कहा है कि ब्रिटेन के अधिशेष आपूर्ति से 1,000 और वेंटिलेटर भेजे जाएंगे जो कोरोना महामारी से जूझ रहे भारत की मदद करने के लिए होंगे। अस्पतालों को COVID मामलों से लड़ने के लिए मदद भेजी जाएगी, पिछले महीने जिस राहत पैकेज की घोषणा हुई थी उसके तहत अन्य 200 वेंटिलेटर, 495 ऑक्सीजन सांद्रता और तीन ऑक्सीजन उत्पादन इकाइयों की मदद शामिल है। 

डाउनिंग स्ट्रीट ने कहा, "मंगलवार को यूके के प्रधानमंत्री और भारत के बीच सहयोग को गहरा करने के लिए प्रतिबद्धताओं की बड़ी सीरीज के लिए एक वर्चुअल बैठक करेंगे, जिसमें कोरोनोवायरस महामारी से लड़ने पर होने वाली चर्चा भी शामिल होगा।"

साझा मूल्यों को बढ़ावा

प्रधानमंत्री मोदी के साथ अपने आह्वान के दौरान, यूके के प्रधानमंत्री हमारे साझा मूल्यों को बढ़ावा देने के लिए भारत के साथ काम करने के महत्व पर जोर देंगे। बहुत जरूरी उपकरणों की पेशकश के अलावा, यूके सरकार ने कहा कि इंग्लैंड के मुख्य चिकित्सा अधिकारी क्रिस व्हिट्टी और मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार पैट्रिक वालेंस ने अपने भारतीय समकक्षों को भारतीय स्वास्थ्य प्रणाली के लिए सलाह, अंतर्दृष्टि और विशेषज्ञता प्रदान करने के लिए बात कही है।  

यह सहमति व्यक्त की गई है कि ब्रिटेन की राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा (एनएचएस) भारत के COVID प्रतिक्रिया का समर्थन करने के लिए एनएचएस इंग्लैंड के मुख्य लोग अधिकारी  के नेतृत्व में एक नैदानिक ​​सलाहकार समूह स्थापित करना है।

भारत का दौरा किया रद्द

बता दें कि यूके के प्रधानमंत्री जॉनसन ने कोरोना के बढ़ते कहर को देखते हुए इस साल होने वाले भारत दौरे को भी रद्द कर दिया था। उनकी भारत यात्रा की शुरुआत 25 अप्रैल से होने वाली थी, लेकिन कोरोना के मामलों में होने वाली बढ़ोतरी के कारण दौरा रद्द करना पड़ा था। इससे पहले भी जॉनसन को गणतंत्र दिवस परेड के मौके पर मुख्य अतिथि के रूप में शामिल किया जाना था, लेकिन उनके उस दौरे को भी रद्द कर दिया गया था। ब्रिटिश सरकार उस दौरान देश में फैल रहे वायरस के नए वेरिएंट से निपट रही थी।

संबंधित खबरें