अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ब्रिटेन से 23 रूसी राजनयिक निष्कासित, अंतरराष्ट्रीय समुदाय से की रूस पर बैन लगाने की मांग

ब्रिटिश प्रधानमंत्री ने रूसी संपत्तियों को भी जब्त करने की बात कही है।

ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे ने दक्षिणी इंग्लैण्ड में रूसी जासूस सर्गेई स्क्रीपल और उनकी बेटी पर रासायनिक हमला करने के मामले में बुधवार को रूस को जिम्मेदार ठहराया है। इसके साथ ही उन्होंने रूस के 23 राजनयिकों देश छोड़ने का आदेश देते हुए निष्कासित कर दिया है। साथ ही रूस के साथ सभी उच्च स्तरीय कूटनीतिक संबंध खत्म करने को कहा है। ब्रिटिश प्रधानमंत्री ने रूसी संपत्तियों को भी जब्त करने की बात कही है। वहीं रूस ने भी साफ कर दिया है कि वह अपने खिलाफ होने वाली किसी भी कार्रवाई का जवाब देगा।

थेरेसा ने कहा कि 30 वर्षों में की गई सबसे बड़ी निष्कासन की कार्रवाई से वर्षों से ब्रिटेन में चल रही रूसी खुफिया क्षमताओं में भी कमी आएगी। इसके साथ ही उन्होंने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से रूस पर प्रतिबंध लगाने की मांग की। थेरेसा ने यह कदम रूस द्वारा पूर्व जासूस पर नर्व एजेंट (जहर) से हमला करने के मामले जवाब नहीं देने के बाद उठाया है। 

ट्रंप ने चौंकाया, टिलरसन को हटाकर माइक पोंपियो को बनाया विदेश मंत्री

रूसी खुफिया अधिकारी के रूप में की गई पहचान
थेरेसा ने कहा कि जिन 23 राजनायिकों की पहचान रूसी खुफिया अधिकारी के रूप में की गई है उन्हें एक हफ्ते के अंदर देश छोड़ना होगा। उन्होंने रूस के विदेश मंत्री का एक आमंत्रण भी रद्द कर दिया है। साथ ही कहा कि इस साल रूस में होने वाले फीफा वर्ल्ड कप में ब्रिटेन का शाही परिवार शामिल नहीं होगा।

चार मार्च को हुई थी मारने की कोशिश
बीते चार मार्च को पूर्व रूसी जासूस सर्गेई स्क्रीपल और उसकी बेटी यूलिया को ब्रिटेन के सैलिस्बरी शहर में जहर देकर जान से मारने की कोशिश की गई थी। इसके बाद से दोनों की हालत गंभीर बनी हुई है। इस घटना ने रूस और ब्रिटेन और उसके सहयोगी अमेरिका, नाटो और यूरोपीय संघ को आमने-सामने ला दिया है।

निया में सबसे ज्यादा हथियार खरीदने वाला देश बना भारत

ट्रंप ने भी थेरेसा से बात की
पूर्व रूसी जासूस पर नर्व एजेंट से हमले के बाद अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार को ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे के साथ फोन पर बातचीत की। इसके साथ उन्होंने कहा कि रूस को इस मामले में जवाब देना चाहिए। माना जाता है कि द्वितीय विश्व युद्ध के बाद से यह यूरोप में पहला नर्व एजेंट का हमला है। 

 रूस ने ब्रिटेन के आरोप को खारिज किया
रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन के प्रवक्ता ने ब्रिटेन के आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए खारिज कर दिया है। प्रवक्ता दिमित्री पेस्कोव ने कहा कि ब्रिटेन में हुए हादसे से रूस का कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने दोहराया कि रूस जांच में सहयोग करने को लेकर खुला रुख अपना रहा है। साथ ही उन्होंने चेताया कि शीत युद्धकाल की साजिशों की तरह यदि रूस को दंडित किया गया तो वह पलटवार करेगा। 

GFP रिपोर्ट:भारत दुनिया का चौथा सबसे ताकतवर देश,ब्रिटेन और फ्रांस पीछे

क्या होता है नर्व एजेंट
नर्व एजेंट (जहर) का ज्यादातर इस्तेमाल पुराने समय में दुश्मनों की हत्या करने के लिए किया जाता था। कोई भी वस्तु जो तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करती हो नर्व एजेंट हो सकती है। यह तरल और गैस के रूप में पाया जाता है। भाप के रूप में भी ये शरीर में प्रवेश कर सकता है। इस रसायन के संपर्क में आते ही दिमाग संदेश देना बंद कर देता है और मांसपेशियों को लकवा मार जाता है। अगर इससे श्वसन तंत्र से जुड़ी मांसपेशियां प्रभावित होती हैं तो व्यक्ति की तुरंत मौत हो सकती है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Britain expels 23 Russian diplomats over chemical attack on ex-spy