DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ब्रिटेन के नए प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन का वादा, ब्रेग्जिट को संभव कर दिखाएंगे

boris johnson  boris johnson twitter 18 july  2019

यूरोपीय संघ से अलग होने के मुद्दे पर ब्रिटेन में जारी राजनीतिक अनिश्चितता के बीच बोरिस जॉनसन ने मंगलवार को कंजर्वेटिव पार्टी की नेतृत्व दौड़ में जीत हासिल की और वह देश के नए प्रधानमंत्री चुन लिए गए। उन्होंने 31 अक्टूबर की समयसीमा तक ''ब्रेग्जिट" को संभव कर दिखाने का वायदा किया। यह पहले से ही उम्मीद जताई जा रही थी कि पूर्व विदेश मंत्री एवं लंदन के पूर्व मेयर जॉनसन 10 डाउनिंग स्ट्रीट की लड़ाई में विदेश मंत्री जेरेमी हंट को हरा देंगे।

पार्टी के नेतृत्व और प्रधानमंत्री पद की दौड़ पिछले महीने तब शुरू हुई थी जब ब्रेग्जिट मुद्दे पर कंजर्वेटिव पार्टी में बढ़ती बगावत के चलते टेरेसा मे ने प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा देने की घोषणा की थी। जॉनसन ने कंजर्वेटिव पार्टी के नए नेता के रूप में अपने पहले संबोधन में कहा, ''हम देश को ऊर्जावान बनाने जा रहे हैं। हम 31 अक्टूबर को ब्रेग्जिट को संभव कर दिखाने जा रहे हैं। उन्होंने कहा, ''हम एक बार फिर स्वयं में विश्वास करने जा रहे हैं।"

पश्चिमी लंदन के सांसद ने अपनी पूर्ववर्ती टेरेसा मे का धन्यवाद व्यक्त किया। उन्होंने प्रधानमंत्री पद की दौड़ में शामिल अपने प्रतिद्वंद्वी हंट को भी धन्यवाद दिया और कहा कि हंट मजबूत प्रतिद्वंद्वी बनकर उभरे तथा वह उनके अच्छे विचारों को अपनाना चाहेंगे। परिणाम की घोषणा के तुरंत बाद संसद भवन के पास क्वीन एलिजाबेथ। सेंटर में टोरी पार्टी के सदस्यों को संबोधित करते हुए 55 वर्षीय जॉनसन ने कहा, ''उद्देश्य ब्रेग्जिट को संभव कर दिखाने, देश को एकजुट करने और जेरेमी कोरबिन (लेबर नेता) को हराने का है।" उन्होंने कहा, ''मैं आपकी विश्वास बहाली के लिए काम करूंगा। काम अब शुरू होता है।"

सांसद एवं टोरी पार्टी की '1922 समिति की सह-अध्यक्ष चेरिल गिलान ने लिफाफा खोला और घोषणा की कि जॉनसन को 92,153 वोट मिले हैं, जबकि उनके प्रतिद्वंद्वी हंट को 46,656 वोट मिले हैं। नया नेता चुनने के लिए टोरी पार्टी के 87.4 सदस्यों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था। 509 वोट खारिज कर दिए गए।" जॉनसन के बुधवार को प्रधानमंत्री के रूप में कार्यभार संभालने की उम्मीद है। नए प्रधानमंत्री अपना नया मंत्रिमंडल चुनने के वास्ते कुछ समय ले सकते हैं।

भारतीय मूल के सांसदों-प्रीति पटेल और ऋषि सुनक सहित जॉनसन के कई समर्थकों और ब्रेग्जिटियर्स को मंत्री पद मिलने की उम्मीद है। पटेल ने नेतृत्व संबंधी चुनाव परिणाम के संदर्भ में कहा, ''कंजर्वेटिव पार्टी के नेता और प्रधानमंत्री के रूप में बोरिस जॉनसन के मिलने से देश के पास एक ऐसा नेता होगा जो ब्रिटेन में विश्वास करता है। वह देश के भविष्य के लिए नया दृष्टिकोण पेश करेंगे और आगे बढ़ने का खाका तैयार करेंगे तथा ब्रिटेन को एक ऐसा देश बनाने के लिए काम करेंगे जो विश्व में भारत जैसे हमारे मित्रों और सहयोगियों के साथ संबंधों को पुन:स्थापित करे।

जॉनसन और हंट दोनों ने पार्टी के भारतीय समुदाय तक पहुंच के लिए विशेष प्रयास किए। हंट ने जहां यह कहा था कि प्रधानमंत्री बनने पर वह ब्रेग्जिट के बाद भारत के साथ मुक्त व्यापार समझौते पर काम करेंगे, वहीं जॉनसन ने कहा था कि अगर वह प्रधानमंत्री निर्वाचित होते हैं तो भारत के साथ ''नवीन और उन्नत व्यापार संबंध स्थापित करेंगे।" लंदन के पूर्व मेयर जॉनसन के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मजबूत ''निजी संबंध रहे हैं।" वह अपने से अलग हुई अपनी पत्नी मैरिना व्हीलर की मां के भारतीय होने के कारण विगत में खुद को ''भारत का दामाद करार दे चुके हैं।"

चांसलर फिलिप हैमंड और न्याय मंत्री डेविड गाउके सहित कई कैबिनेट मंत्री पहले ही कह चुके हैं कि वे ब्रेग्जिट की 31 अक्टूबर की समयसीमा पर जॉनसन के ''करो या मरो संकल्प की वजह से उनके अधीन काम करने की जगह इस्तीफा देना पसंद करेंगे। विदेश कार्यालय मंत्री एलन डंकन परिणाम घोषित होने से पूर्व ही जॉनसन की ब्रेग्जिट रणनीति के विरोध में पहले-पहल इस्तीफा देने वालों में शुमार हो गए। शिक्षा विभाग से संबंधित मंत्री एने मिल्टन ने भी परिणाम घोषित होने से पहले मे को अपना इस्तीफा भेज दिया। एक महीने तक चले नेतृत्व संबंधी अभियान के दौरान जॉनसन की रंगीनमिजाजी वाली निजी जिन्दगी को लेकर भी खूब बातें हुईं। ब्रिटिश मीडिया कयासबाजी में लगी है कि जॉनसन की महिला मित्र कैरी सिमोंड्स 10 डाउनिंग स्ट्रीट में प्रधानमंत्री के साथ होंगी या नहीं।

उधर, टेरेसा मे ने मंगलवार को डाउनिंग स्ट्रीट में अपनी अंतिम कैबिनेट बैठक की अध्यक्षता की। बुधवार को वह हाउस ऑफ कॉमन्स में प्रधानमंत्री संबंधी अंतिम चर्चा में शामिल होंगी। उसके बाद वह महारानी को अपना इस्तीफा सौंपने बकिंघम पैलेस जाएंगी। इसके बाद 93 वर्षीय महारानी नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री जॉनसन को सरकार के गठन का आमंत्रण देंगी। इसके बाद जॉनसन प्रधानमंत्री के रूप में डाउनिंग स्ट्रीट में बुधवार की शाम अपना पहला संबोधन देंगे। नए प्रधानमंत्री बृहस्पतिवार की सुबह अपनी पहली कैबिनेट बैठक की अध्यक्षता करेंगे। इसके बाद ब्रिटिश संसद की गर्मी की छुट्टियां शुरू हो जाएंगी जो सितंबर के शुरू तक रहेंगी।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने जॉनसन को प्रधानमंत्री बनने पर ट्वीट के जरिए बधाई दी। यूरोपीय आयोग की नयी प्रमुख उर्सुला वोन डेर लेयेन ने जॉनसन को प्रधानमंत्री बनने पर बधाई दी, लेकिन आगाह किया कि आगे समय ''मुश्किल और चुनौतीपूर्ण" है। उल्लेखनीय है कि जॉनसन विगत में काफी विवादों में भी रहे हैं। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से स्नातक करने के बाद जॉनसन 1987 में 'द टाइम्स अखबार के साथ प्रशिक्षु रिपोर्टर के रूप में जुड़े। लेकिन उन्हें एक साल के भीतर तब बर्खास्त कर दिया गया जब उन्होंने राजा एडवर्ड द्वितीय सम्राट के संदिग्ध समलैंगिक प्रेमी के बारे में एक उद्धरण गढ़ा।

उनकी पार्टी के तत्कालीन मुखिया माइकल हावर्ड ने वर्ष 2004 में जॉनसन को एक विवाहेतर संबंध के बारे में झूठ बोलने को लेकर छाया मंत्री और कंजर्वेटिव पार्टी के उपाध्यक्ष पद से हटा दिया था। जॉनसन ने उस समय अपनी दूसरी पत्नी से शादी की थी जिससे उन्हें चार बच्चे हैं। उन्होंने चार साल तक एक अन्य महिला से संबंध रहने के एक पत्रिका के आरोपों को शुरू में खारिज किया था। कंजर्वेटिव पार्टी के अधिकारियों के अनुसार हावर्ड ने उन्हें ''निजी नैतिकता के आधार पर हटा दिया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Boris Johnson elected new UK PM promises to energise the country and get Brexit done