DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   विदेश  ›  मिसाल: ब्राजील में कोरोना से मची थी भयंकर तबाही, सबको वैक्सीन देकर इस शहर ने वायरस को ऐसे हराया

विदेशमिसाल: ब्राजील में कोरोना से मची थी भयंकर तबाही, सबको वैक्सीन देकर इस शहर ने वायरस को ऐसे हराया

हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Shankar Pandit
Fri, 07 May 2021 05:59 AM
COVID19 vaccine
1 / 2COVID19 vaccine
Covid vaccine and variants
2 / 2Covid vaccine and variants

ब्राजील के सेरेना शहर ने टीकाकरण से कोरोना वायरस को मात देकर पूरी दुनिया के सामने एक नजीर पेश की है। इस शहर ने सभी वयस्कों को वैक्सीन देकर कोरोना की रफ्तार को रोक दी है। सबसे अहम बात यह है कि पूरे विश्व में कहर बरपाने वाले ब्राजील वैरिएंट भी इस शहर में नहीं फैला। इस शहर की आबादी बमुश्किल 45 हजार है। 

साउ पाउलो स्थित सेरेना की कुल आबादी 45,600 है। इसमें करीब 30,000 वयस्क हैं। एक प्रोजेक्ट के तहत इस शहर को टीकाकरण के लिए चुना गया। प्रोजेक्ट के लिए यहां की आबादी सबसे उपयुक्त थी, क्योंकि यहां की जनसंख्या बहुत ज्यादा नहीं थी और आंकड़े भी मिल जाते। परियोजना के समन्वयक और सेरेना स्टेट हॉस्पिटल के निदेशक मार्कोस बोर्जेस ने बताया कि एक अध्ययन से पता चला कि जुलाई, 2020 में सेरेना में पांच प्रतिशत लोग कोरोना की चपेट में आ गए थे। मतलब हर 20 में से एक व्यक्ति संक्रमित हो चुका था। इस प्रोजेक्ट को साउ पाउलो ने वित्तीय मदद की। 

95.7 प्रतिशत लोगों को लगा टीका 
चीन द्वारा विकसित सिनेवैक की वैक्सीन से प्रोजेक्ट के तहत टीकाकरण प्रोजेक्ट पर काम शुरू किया गया। 11 अप्रैल तक 27,722 वयस्कों को टीके की पहली खुराक दे दी गई। इसके साथ इस माह के अंत तक 27,160 वयस्कों को टीके की दूसरी खुराक भी दे दी जाएगी। इसका मतलब यह हुआ कि सेरेना के 95.7 प्रतिशत वयस्कों को पूरी तरह से टीका लगाया जा चुका है। यह सफलता तब मिली जब ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोलोसनारो ने सार्वजनिक रूप से कोरोनावैक टीके लगाए।

टीकाकरण के बाद मामले में गिरावट आई 
स्थानीय मीडिया के मुताबिक टीकाकरण के बाद 28 मार्च से संक्रमितों की संख्या में गिरावट दर्ज होने लगी। इस वर्ष मार्च के प्रारंभ में संक्रमण का मामला शिखर पर था, जो बाद में घटकर 10 प्रतिशत हो गया। सेरेना में दो दशक तक काम करने वाली नर्स ग्लेंडा डे मोरेस ने बताया कि कोरोना पॉजिटिव मामले में 20 फीसदी तक की कमी आई है, जबकि इससे पहले 30 से 40 फीसदी तक मामले आते थे।

ऐसे कम हुआ मामला 
स्थानीय स्वास्थ्य सचिवालय के अनुसार जनवरी, 2021 में 706 लोग संक्रमित हुए हैं। वहीं, फरवरी और मार्च में संक्रमण के मामले क्रमश: 484 और 692 जबकि, अप्रैल में 235 मामले की पुष्टि की गई थी। प्रोजेक्ट से जुड़े एक सदस्य ने बताया कि यह सब स्पष्ट रूप से टीकाकरण से प्रभाव है। वहीं, बोर्जेस इस संबंध में कुछ भी बोलने से बच रहे हैं। उन्होंने कहा कि अभी हम सतर्क रहना है। हम अब भी इसका अध्ययन कर रहे हैं। 
 

संबंधित खबरें