ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News विदेशएक और मुस्लिम देश का इजरायल को झटका, नाटो सदस्य तुर्की ने वापस बुलाया राजदूत

एक और मुस्लिम देश का इजरायल को झटका, नाटो सदस्य तुर्की ने वापस बुलाया राजदूत

गाजा में मानवीय संकट गहराने के कारण तुर्की ने इजरायल पर जमकर निशाना साधा है। तुर्की भी दो-राज्य समाधान का समर्थन करता है। यह देश हमास के सदस्यों की मेजबानी भी करता है।

एक और मुस्लिम देश का इजरायल को झटका, नाटो सदस्य तुर्की ने वापस बुलाया राजदूत
Amit Kumarलाइव हिन्दुस्तान,अंकाराSat, 04 Nov 2023 07:42 PM
ऐप पर पढ़ें

इजरायल को बड़ा झटका देते हुए तुर्की ने भी अपने राजदूत को बुलाने का फैसला किया है। इजरायल से राजदूत बुलाने का फैसला ऐसे समय में किया गया है जब अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन तुर्की यात्रा पर जा रहे हैं। पिछले महीने इजरायल-हमास युद्ध शुरू होने तक फिलिस्तीनी सहयोगी तुर्की धीरे-धीरे इजरायल के साथ अपने टूटे हुए संबंधों को सुधार रहा था। लेकिन जैसे-जैसे लड़ाई बढ़ती गई और फिलिस्तीनी नागरिकों की मृत्यु दर बढ़ती गई, वैसे-वैसे तुर्की ने इजरायल और उसके पश्चिमी समर्थकों के खिलाफ अपना स्वर सख्त करना शुरू कर दिया।

तुर्की के विदेश मंत्रालय ने कहा कि राजदूत साकिर ओजकान टोरुनलर को "गाजा में नागरिकों के खिलाफ इजरायल द्वारा लगातार किए जा रहे हमलों और इजरायल के युद्धविराम को स्वीकार करने से इनकार करने के कारण हुई मानवीय त्रासदी को देखते हुए" परामर्श के लिए वापस बुलाया जा रहा है। इजरायली बलों ने गाजा के सबसे बड़े शहर को घेर लिया है और इजराइल पर 7 अक्टूबर के हमले के प्रतिशोध में हमास को कुचलने की कोशिश कर रहे हैं। तुर्की से पहले बोलिविया और जॉर्डन ने भी इजरायल से रिश्ते तोड़ दिए थे।

तुर्की के राष्ट्रपति तैय्यप एर्दोगन ने शनिवार को कहा कि इजरायल-हमास युद्ध समाप्त होने के बाद गाजा को एक स्वतंत्र, संप्रभु फिलिस्तीनी देश का हिस्सा होना चाहिए। उन्होंने कहा कि तुर्की इतिहास से "फिलिस्तीनियों को धीरे-धीरे मिटाने" की किसी भी योजना का समर्थन नहीं करेगा।

गाजा में मानवीय संकट गहराने के कारण तुर्की ने इजरायल पर जमकर निशाना साधा है। तुर्की भी दो-राज्य समाधान का समर्थन करता है। यह देश हमास के सदस्यों की मेजबानी भी करता है। तुर्की हमास को अमेरिका, ब्रिटेन और अन्य पश्चिमी देशों के विपरीत एक आतंकवादी संगठन के रूप में नहीं देखता है। तुर्की ने तत्काल युद्धविराम का आह्वान किया है और इसकी गारंटी के लिए एक प्रणाली स्थापित करने की पेशकश की है। शुक्रवार को कजाकिस्तान से वापसी की फ्लाइट में पत्रकारों से बात करते हुए, एर्दोगन ने इजरायल के समर्थन के लिए पश्चिमी देशों की फिर से आलोचना की। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें