ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News विदेशअमेरिका के न्यूयॉर्क में 6 मंजिला इमारत में लगी भीषण आग, युवा भारतीय पत्रकार की दर्दनाक मौत

अमेरिका के न्यूयॉर्क में 6 मंजिला इमारत में लगी भीषण आग, युवा भारतीय पत्रकार की दर्दनाक मौत

फाजिल खान न्यूयॉर्क में स्थित शिक्षा में नवाचार और असमानता पर केंद्रित मीडिया कंपनी ‘द हेचिंगर रिपोर्ट’ के पत्रकार थे। न्यूयॉर्क में स्थित भारत के महावाणिज्य दूतावास ने खान की मृत्यु पर शोक जताया है।

अमेरिका के न्यूयॉर्क में 6 मंजिला इमारत में लगी भीषण आग, युवा भारतीय पत्रकार की दर्दनाक मौत
Niteesh Kumarएजेंसी,न्यूयॉर्कSun, 25 Feb 2024 02:43 PM
ऐप पर पढ़ें

अमेरिका के मैनहेटन में आवासीय इमारत में आग लगने से एक भारतीय नागरिक की मौत हो गई। 27 साल का यह नौजवान न्यूयॉर्क में पत्रकार के तौर पर काम करता था। मैनहेटन के हार्लेम में सेंट निकोलस पैलेस पर 6 मंजिला रिहाइशी इमारत में आग लग गई थी। मृतक की पहचान फाजिल खान के तौर पर हुई है। इस घटना में 17 अन्य लोग घायल हो गए। न्यूयॉर्क नगर अग्निशमन विभाग की ओर से घटना को लेकर जानकारी दी गई। इसमें कहा गया कि विनाशकारी आग लिथियम-आयन बैटरी के कारण लगी थी।

न्यूयॉर्क में भारत के महावाणिज्य दूतावास ने खान की मृत्यु पर शोक जताया है। दूतावास की ओर से कहा गया कि वह खान के शव को भारत में उनके परिवार को वापस भेजने के लिए हर संभव सहायता प्रदान कर रहा है। महावाणिज्य दूतावास ने शनिवार को एक पोस्ट में कहा, 'न्यूयॉर्क के हार्लेम में आग की घटना में 27 वर्षीय भारतीय नागरिक फाजिल खान की मौत के बारे में जानकर दुख हुआ।' दूतावास ने कहा कि फाजिल खान के परिवार और दोस्तों से संपर्क साधा गया है। महावाणिज्य दूतावास ने कहा, 'हम उनके पार्थिव शरीर को भारत वापस लाने में हर संभव सहायता करेंगे।' 

फाजिल खान ने भारत में भी पत्रकार के तौर पर किया काम 
फाजिल खान मीडिया कंपनी ‘द हेचिंगर रिपोर्ट’ के पत्रकार थे। न्यूयॉर्क में स्थित यह कंपनी एजुकेशन में असमानता और इनोवेशन पर फोकस करती है। खान उनके यहां पर डेटा रिपोर्टर के तौर पर काम कर रहे थे। उनका काम एजुकेशन डेटा को इकट्ठा करना और उसका विश्लेषण करना था। असमानता उजागर करने और शिक्षा में नवाचार को लेकर वह दूसरे पत्रकारों का सहयोग करते थे। फाजिल ने 2021 में कोलंबिया जर्नलिज्म स्कूल से डेटा जर्नलिज्म में ग्रेजुएशन की डिग्री ली थी। स्कूल के ग्लोबल माइग्रेशन प्रोजेक्ट के लिए वह पोस्ट-ग्रेजुएट फेलो के तौर पर चुने गए थे। मालूम हो कि यूएस जाने से पहले वह भारत में भी कई मीडिया संस्थानों के साथ काम कर चुके थे।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें